चंडीगढ़ विश्व हिंदू परिषद के आयाम सामाजिक समरसता की हुई अहम बैठक
October 5th, 2020 | Post by :- | 290 Views

चंडीगढ़ ( मनोज शर्मा) विश्व हिंदू परिषद चंडीगढ़ ने अपने आयामों का विस्तार करते हुए  सामाजिक समरसता आयाम की  बैठक बिहिप कार्यालय शिव मानस मंदिर में की, जिसमें  विश्व हिंदू परिषद चंडीगढ़ के मंत्री  सुरेश कुमार राणा ने  सामाजिक समरसता के ऊपर अपने उद्बोधन में बताया कि सामाजिक समरसता” एक ऐसा विषय है जिसकी चर्चा करना एवं इसे ठीक प्रकार से कार्यान्वित करना आज समाज व राष्ट्र की आवश्यकता है। इसके लिए हमें सर्वप्रथम ‘सामाजिक समरसता’ यानी सामाजिक समानता “एकात्मभाव “यदि व्यापक अर्थ देखें तो इसका अर्थ है – जातिगत भेदभाव एवं अस्पृश्यता रहित समाज आपसी प्रेम एवं सौहार्द के साथ समाज के सभी वर्गों एवं वर्णों की  “बहु भाव व एकत्व भव ” में एकरूपता ही समरस्ता का वास्तविक अर्थ है। ईश्वर ने सृष्टि में सभी को मनुष्य के रूप में भेजा और उनमें एक ही चैतन्य विद्यमान है इस बात को हृदय से स्वीकार करना ही सामाजिक समरसता है । जब 1964 में विश्व हिंदू परिषद की स्थापना हुई थी तब यह मंत्र दिया गया था ।

”सर्वे हिन्दू सहोदरा ,न हिन्दू पवितोभवेत्
मम दीक्षा हिन्दू रक्षा मम मंत्र: समानता’
भारतीय संस्कृति तो ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ को मानने वाली है। यदि यहां के लोगों को इस बात का आभास हो जाये और वे आत्म साक्षात्कार कर पायें एवं अपनी शक्ति को पहचाने तो भारत माता फिर से उसी सर्वोच्च सिंहासन पर स्थित होगी जहां कभी यह पहले आरूढ़ थी।
इस बैठक में  विशेष रुप से चंडीगढ़ महानगर समाजिक समरसता प्रमुख लखबीर सिंह, राहुल कुमार,संजीव रैना, अजीत सिंह, अरविंद मौर्य, विजय कुमार, सुभम गुप्ता,विकाश रतूड़ी और मुनीश उपस्थित रहे ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।