राजस्थान पुलिस बेनेवेलेंट फंड से छात्रवृत्ति हेतु आवेदन पत्र आमंत्रित
October 1st, 2020 | Post by :- | 120 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । राजस्थान पुलिस पुलिस बनेवेलेंट फंड से पुलिसकर्मियों के बच्चों के लिए शिक्षा सत्र 2020-2021 के लिए छात्रवृत्ति एवं खेल छात्रवृत्ति हेतु निर्धारित प्रपत्र में आवेदन पत्र आमंत्रित किए गए हैं। आवेदन प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 24 नवंबर 2020 निर्धारित की गई है। महानिदेशक पुलिस आयोजना,आधुनिकीकरण एवं कल्याण तथा राजस्थान पुलिस बेनिवॉलेंट फंड के उपाध्यक्ष श्री यू आर साहू ने बताया कि राजस्थान पुलिस बनेवेलेंट फंड से पुलिसकर्मियों के बच्चों को शिक्षा सत्र 2020-21 के लिए छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। सामान्य पाठ्यक्रम हेतु कक्षा 9 से लेकर 12वीं तक तथा स्नातक व स्नातकोत्तर स्तर के प्रतिभाषाली विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। तकनीकी व व्यावसायिक पाठ्यक्रम एवं अन्य योग्यताएं अर्जित करने वाले विद्यार्थियों को भी छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी।
किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना के तहत चयनित पुलिसकर्मियों के बच्चों को ₹25000 तथा 10वीं एवं 12वीं बोर्ड की परीक्षा में राज्य स्तरीय मेरिट में दसवें स्थान तक आने वाले पुलिसकर्मियों के बच्चों को ₹25000 तथा 10वीं व 12वीं बोर्ड की परीक्षा में 85 प्रतिशत से अधिक अंक अर्जित करने वाले पुलिसकर्मियों के बच्चों को क्रमशः ₹10 हजार व 15 हजार की छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। राजकीय अथवा मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थानों में नियमित रूप से अध्ययनरत पुलिस कर्मियों के बच्चे ही पात्र होंगे। छात्रवृत्ति हेतु आवेदन पत्र निर्धारित प्रपत्र की पूर्ति के पश्चात एमएस एक्सेल में सूचीबद्ध कर सीडी सहित अंतिम तिथि 24 नवंबर 2020 तक अतिरिक्त अतिरिक्त महानिदेशक पुलिस, आयोजना-आधुनिकीकरण एवं कल्याण जयपुर को प्रेषित किए जा सकते हैं। श्री साहू ने बताया कि राजस्थान पुलिस बेनेवेलेंट फंड से पुलिसकर्मियों के बच्चों को अंतर्राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में पदक जीतने पर छात्रवृत्ति देने का प्रावधान है। उन्होंने बताया कि खेल छात्रवृत्ति के लिए भी आवेदन पत्र 24 नवम्बर तक आयोजना आधुनिकीकरण एवं कल्याण शाखा,पुलिस मुख्यालय को प्रेषित किए जा सकते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।