भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ओ पी धनकड़ ने, किसानों की बदलती परिस्थिति को सामने रखते हुए उनके हित मे बात की।
September 30th, 2020 | Post by :- | 72 Views

पंचकूला।(मनीषा) हरियाणा प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा  कि पारित हुए तीनों कृषि विधेयकों के मामले में विपक्ष किसानों को गुमराह करने में लगा हुआ है। उन्होंने कहा कि केंद्र  और प्रदेश में भाजपा की सरकारें किसान की मदद के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। सरकार ही किसानों की उपज को खरीदती है और उसे पता है कि कहां किसान को नुक्सान हो रहा है। वह किसी भी सूरत में किसान का नुक्सान नहीं होने देगी। उन्होंने कहा कि  सिर्फ गेहू और धान ही नहीं खरीदी जानी, बल्कि किसान की कपास, मक्का, बाजरा, दालें सब्जियां, फल उसकी पोल्ट्री भी खरीदी जानी हैं। क्योंकि पैसे तो सरकार ने देने हैं, विपक्ष नहीं देता।  उन्होंने कहा कि किसानों को विपक्ष की इस सोची समझाी साजिश को समझना होगा तथा अपना भला बुरा स्वयं ही समझना होगा।
धनखड़ आज यहां पंचकूला आयोजित सम्मान समारोह में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे। अखिल भारतीय अग्रवाल सम्मेलन के प्रदेश अध्यक्ष कुलभूषण गोयल  बतौर विशिष्ट अतिथि कार्यक्रम में शिरकत की।
कार्यक्रम में पत्रकारों को संबोधित करते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ओ पी धनकड़ ने कहा कि आज किसानों के हितों की बात करने वाली कांग्रेस जब तक सत्ता में रही स्वामीनाथन की सिफारिसों की रिपोर्ट को दबाये बैठे रही और उसे लागू नहीं किया। आज वह किसान हितैषी होने का ढोंग कर रही है।
उन्होंने कहा कि किसानों की हितैषी प्रदेश व देश की भाजपा सरकारें किसान की उपज का एक एक दाना खरीदेगी और उसको किसी प्रकार का नुक्सान न हो इसका भी ध्यान रखेगी। उन्होंने बताया कि आज प्रदेश में 100 करोड़ टन क्विंटल गेहूं की पैदावार होती है जिसमें से 34 करोड़ टन सरकार खरीदती है। इसी प्रकार 112 करोड़ टन  चावल की पैदावार होती है जिसमें से 44 करोड़ टन सरकार खरीदती है। उन्होंने कहा कि पत्रकारों को भी तथ्यों को समझ कर उसकी सही ढंग से समीक्षा करनी चाहिए तथा सच को सामने लाना चाहिए, मगर आज काफी हद तक ऐसा नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि पत्रकार तो एक मार्गदर्शक होता है जो समाज को आईना दिखाता है, मगर आज बदली हुई परस्थिति में अब हम पक्ष विपक्ष को आमने सामने रखते हैं जिस वजह से तथ्य खो जाते हैं। उन्होंने कहा कि ब्यान पर ब्यान दिखाये व लिखे जाते हैं, जिसके कारण असली तथ्य उजागर नहीं होते। पूर्व कृषि मंत्री और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि आज वह समय आ गया है कि हम खबरें आखों से देखने की बजाये कानों से देखते हैं और उसी के आधार पर अपनी राय बनाते हैं। उन्होंने पत्रकारों का आहवान किया कि वे कृषि अर्थव्यवस्था को समझाने का प्रयास करें, क्योंकि यह भी हमारी राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था का एक अभिन्न अंग है। उन्होंने कहा कि पत्रकारों को न सिर्फ इस अर्थव्यवस्था को अच्छे से समझना चाहिए बल्कि विपक्ष से भी सीधे सीधे सवाल करना चाहिए कि वे अन्नदाता को गुमराह क्यों कर रहे हैं। इस अवसर पर जिला भाजपा अध्यक्ष अजय शर्मा, पूर्व जिला अध्यक्ष दीपक शर्मा, प्रदेश महामंत्री संजय शर्मा, प्रतिष्ठित समाजसेवी डॉ प्रदीप अग्रवाल, समाजसेवी यश गर्ग, युवा एंटरप्रेन्योर विमल, युवा एंटरप्रेन्योर परवेज सैफी, पूर्व जिला परिषद चेयरमैन उमेश सूद, पदमभूषण किसान कमल सिंह चैहान तथा पूर्व विधायक और करीब 1200 करोड़ की कृषि क्षेत्र में टर्नओवर लेने वाले जसमेर देशवाल भी उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।