आशा वर्कर्स 07 अगस्त, 2020 से डटी हड़ताल पर, मुख्यमंत्री से मीटींग नहीं हुई तो शाहबाद से भाजपा के पूर्व विधायक कृष्ण बेदी के निवास स्थान पर करेंगे धरना-प्रदर्शन ।
September 21st, 2020 | Post by :- | 391 Views

कुरूक्षेत्र,( शिवचरण ), शाहबाद उपमंडल । लम्बित मागों को लेकर जारी आशा वर्करों की हड़ताल 44वें दिन भी जारी रही । कुरूक्षेत्र जिले से भारी संख्या में आशा वर्करों ने धरने में हिस्सा लिया।
हडताली आशा वर्करो को संबोधित करते हुए जिला प्रधान पिंकी देवी व जिला सचिव जसवन्त कौर ने कहा कि जिला कमेटी कुरूक्षेत्र का डेलिगेशन शाहबाद से भाजपा के पूर्व विधायक कृष्ण बेदी से मिलने के लिए उन्के निवास स्थान पर गया था। परन्तु उस समय उन्होने कहा था कि मुझे 10 दिन का समय दे दो मै खुद मुख्यमंत्री जी से आपकी मीटींग करवा दूगां। हम उन के इसी आश्वाश्न को मानते हुए वापिस आ गये ओर अपना काम करने लगे। परन्तु 15 दिन बीत जाने के बाद जब हमारे पास कोई भी सन्देश नहीं आया तो हम फिर राज्य कमेटी के फैसले अनुसार कृष्ण बेदी से मिलने शाहबाद पहूँच कर बातचीत की। तब पूर्व विधायक  ने दुबारा से 3 दिन का समय मांगा और कहा कि मेरी कौशिश ये रहेगी कि मै इन 3 दिनों से पहले ही आपकी बातचीत मुख्यमंत्री जी से करवा कर धरने को समाप्त करवा दूँगा  ।

जिला कौषाध्यक्ष रानी देवी ने कहा कि जिन आशाओं ने देश व प्रदेश में स्वास्थ्य सेवाओ को मजबूत किया है। उनको न्यूनतम वेतन तक नही दिया जा रहा, कोविड के दौरान अतिरिक्त जोखिम भत्ते एवं कटी हुई प्रोत्साहन राशियों की बहाली की मांग को लेकर लगातार हड़ताल पर हैं। राज्य सरकार ने मांगों पर बातचीत के लिए 17 अगस्त को आशा वर्कर्स यूनियन हरियाणा (सीटू) को बुलाया था, वार्ता लगभग डेढ़ घंटे तक चली मगर किसी भी बात पर कोई ठोस आश्वासन सरकार ने नहीं दिया। यह है कि 21 जुलाई 2018 को जारी किए गए नोटिफिकेशन के अनुसार आशाओं को सब सेंटर पर अलमारी स्मार्टफोन एवं एनम की भर्ती में वेटेज जैसे सरकार के 2 साल पहले के स्वयं के निर्णय को भी ठोस रूप में तुरंत लागू करने बारे उचित आश्वासन नहीं मिला है। वहीं केंद्र से मिलने वाली प्रोत्शाहन राशियों के 50 प्रतिशत की गई कटौती को बहाल करने बारे बात नहीं की जा रही। अतिरिक्त जोखिम भत्ता देने पर भी सरकार मौन है। उन्होने बोलते हुए कहा कि सरकार के इस रूख से सभी आशाओं मे भारी रौष है और जिसका खामियाजा सरकार को भुगतना पड सकता है। इसके साथ उन्होने कहा कि कृष्ण बेदी ने मुख्यमंत्री जी से बातचीत करवाने के लिए 3 दिन का समय मांगा है अगर उन्होंने बात नहीं करवाई तो हम अपना धरना कृष्ण बेदी के घर के आगे लगा देंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।