मृत्यु भोज निवारण की दिशा में पुलिसकर्मी और अधिक गंभीर एवं सार्थक रूप से करें प्रयास:- महानिदेशक पुलिस
September 16th, 2020 | Post by :- | 112 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । महानिदेशक पुलिस श्री भूपेंद्र सिंह ने पुलिसकर्मियों को राजस्थान मृत्यु भोज निवारण अधिनियम 1960 की पालना के लिये जनमानस को जागरूक करने एवं मृत्यु भोज निवारण की दिशा मे और अधिक गंभीर एवं सार्थक प्रयास कर प्रदेश को इस कुरीति से मुक्त करने में यथाशक्ति योगदान देने का आग्रह किया है। श्री सिंह ने पुलिसकर्मियों को दिए अपने संदेश में यह आग्रह किया है कि विगत समय में अनेक अवसरो पर पुलिस के साथियों द्वारा अलग-अलग क्षेत्रों में सामाजिक प्रतिबद्धता के कार्यों से जनमानस को सकारात्मक भाव से छुआ है जिससे आमजन में पुलिस की साख बढ़ी है। नववर्ष के अवसर पर प्रदेश में निराश्रित एवं आवास विहीन लोगों को संबल प्रदान करने को सामाजिक सरोकार का उत्कृष्ट उदाहरण बताये हुए उन्होंने कहा कि वंचित वर्ग के प्रति पुलिस की इस प्रतिबद्धता ने राजस्थान पुलिस के गौरव को बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के संक्रमण एवं लोकडाउन के दौरान पुलिस ने सद्प्रयासों से आमजन एवं वरिष्ठ नागरिकों से जो स्नेह एवं सम्मान अर्जित किया है वो अभूतपूर्व है। श्री सिंह ने कहा कि कोविड जागरूकता के साथ-साथ बाढ़ राहत अभियान में जवानों ने तत्परता से कार्य कर जीवन रक्षा का साहसिक कार्य किया है। वर्षा ऋतु में फसल बुवाई के समय कई जिलों में जमीनी विवादों के सौहार्दपूर्ण समाधान की दिशा में उल्लेखनीय प्रयास किए गए।
महानिदेशक ने कहा कि राजस्थान मृत्यु भोज निवारण अधिनियम 1960 की पालना में कई जिलों में पुलिस के साथियों ने जनमानस को जागरूक करने की जिम्मेदारी को निष्ठा से निभाने का प्रयास किया है। उन्होंने इस संबंध में पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी परिपत्र की भावनानुसार मृत्यु भोज निवारण की दिशा में और अधिक गंभीर एवं सार्थक प्रयास कर राजस्थान को इस कुरीति से मुक्त करने हेतु अपना यथाशक्ति योगदान देने का आग्रह किया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।