‌भारतीय रेलों का निजीकरण न करने की अपील
September 15th, 2020 | Post by :- | 46 Views

गजसिंहपुर, (यश कुमार) । नार्थ वेस्टर्न रेल्वे एम्प्लाइज युनियन के अध्यक्ष सचिदानन्द, कोषाध्यक्ष बलजीत सिंह, सहसचिव महेंद्र शर्मा ब्रांच सेकेट्ररी जसविंदर सिंह सैनी आदि भारतीय रेल का निजीकरण न करने की अपील के सम्बंध में अपनी टीम के साथ मंगलवार को गजसिंहपुर रेलवे स्टेशन पर पहुँचे वहा पर स्टेशन अधीक्षक मनोज कुमार मीणा के द्वारा इनका स्वागत किया गया इस मौके पर गजसिंहपुर रेल संघर्ष समिति के अध्यक्ष रमेश चन्द्र दुगरीया व सचिव जगदीश यादव भी मौजूद थे रेलवे एम्प्लाइज यूनियन के अध्यक्ष सचिदानन्द ने बताया कि नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे एम्प्लाइज किसी राजनीतिक पार्टी से सम्बंधित नही है व रेलवे कर्मचारियों के साथ-साथ आमजन को सहूलियत के लिए भारतीय रेल के प्रभावी संचालन के प्रति हम सदैव सजग रहे हैं भारतीय रेल के द्वारा उपलब्ध कराई जा रही यात्री गाड़ी सुविधा का उपयोग करते हैं तथा भारतीय रेल देश का सबसे सस्ता, सुगम, आरामदायक व सुरक्षित यातायात का साधन हैं व भारतीय रेल घाटे में नही है तथा वर्षो से भारतीय रेल लाभ कमा रही है वही रेलगाड़ीयो की गति भी 110 किलोमीटर प्रति घण्टा करने एवं कई सेक्शन में 130 किलोमीटर प्रति घण्टा तक बढ़ाने में भी हम सफल हुए हैं व रेलगाड़ीयो की सुरक्षा में भी बहुत सुधार किया है भारतीय रेल ने देश के कोने-कोने में यात्री गाड़ी सुविधा को बचाकर पूरे राष्ट्र को आपस मे जोड़ा है यही नही बल्कि बाढ़, युद्व व राष्ट्रीय आपदा आदि के समय में भी भारतीय रेल का सरकारी स्वरूप भी देश के काम आया है ।

कोविड़ 19 में भी देश के प्रधानमंत्री ने घर के बाहर ही लक्ष्मण रेखा खीचने का आह्वान किया था उस समय चिकित्सा, पुलिस कर्मियों के साथ भारतीय रेल की मालगाड़ीया भी पार्सल चलाकर रेल कर्मियों ने देश के लोगो तक अनाज, फल, सब्जियां, दवाइयां व अन्य जरूरमंद चीजे पहुंचाने का कार्य किया इसके साथ ही श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाकर श्रमिकों को उनके घर तक पहुंचाने का कार्य भी भारतीय रेल ने किया है युवाओं को रोजगार प्रदान करने का देश का सबसे बडा संस्थान भारतीय रेल ही है इन सबके बावजूद भी समयनुसार कार्य प्रणाली व सुविधाओं में परिवर्तन के साथ रेलकर्मी रेलो का प्रचालन करने के लिए जबकि तैयार है तब आखिर क्यों देश की जीवनरेखा को प्राइवेट कंपनियों को सौपने के लिए केंद्र सरकार आतुर है इस मौके पर नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे एम्प्लाइज यूनियन के सदस्यों द्वारा गजसिंहपुर के रेल संघर्ष समिति के अध्यक्ष रमेश चन्द्र दुगरिया को एक अपील लैटर देकर अपनी लैटर पैड़ पर देश के प्रधानमंत्री व रेल मंत्री के नाम रेलगाड़ीयो को प्राइवेट कम्पनियो को नही सौपने की अपील करने का आग्रह किया ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।