लीपापोती नहीं, समस्याओं के स्थायी समाधान चाहिए : राज्यमंत्री कमलेश ढांडा
September 15th, 2020 | Post by :- | 47 Views

कैथल(विशाल चौधरी)कैथल, महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री कमलेश ढांडा ने लघु सचिवालय स्थित कॉन्फ्रेंस हॉल में कलायत विधानसभा क्षेत्र में चल रहे विकास कार्यों के दृष्टिïगत पंचायत एवं ड्वैलपमेंट विभाग के अधिकारियों की बैठक लेकर वर्तमान समय में चल रही योजनाओं व विकास कार्यों की समीक्षा की तथा भविष्य की योजनाओं व विकास कार्यों की रणनीतियों को लेकर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने विकास कार्यों के क्रियांवयन को लेकर अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि लीपापोती से काम नहीं चलेगा, बलिक समस्याओं का स्थाई समाधान होना चाहिए। आम जन से जुड़े सभी विकास कार्यांे को प्राथमिकता से पूरा करें। कोताही करने वाले अधिकारियों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
राज्यमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा ग्रामीण आंचल में शहरों की तर्ज पर विकास कार्य किए जा रहे हैं। चौपालों, सड़कों, गलियों, तालाब, लाइब्रेरी, महिला चौपाल, प्रधानमंत्री आवास योजना, बीपीएल राशन कार्ड, कम्युनिटी हॉल और व्यायामशालाओं आदि के पुनर्निर्माण व नव निर्माण से सम्बंधित कार्यों को गति देकर पूरा करें ताकि आम जन को इसका सीधा लाभ पहुंच सके। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल का मुख्य ध्येय है कि आम जन को सुशासन व्यवस्था मिले। इसके लिए अधिकारियों को ईमानदारी व जिम्मेदारी से कार्य करना होगा। क्षेत्र के जितने भी विधायक या अन्य जन प्रतिनिधि आम जन के कार्यों के लिए जब भी दूरभाष पर सम्पर्क करें तो उसे प्राथमिकता देकर पूरा करवाएं। कार्य क्षेत्र में जाकर चल रहे विकास कार्यों की मॉनिटरिंग करते रहें और जो कार्य पूर्ण हो जाएं, उसकी विस्तृत रिपोर्ट भी देना सुनिश्चित करें। अपनी कार्यशैली को सकारात्मक बनाते हुए जितने भी कार्य चल रहे हैं, उन्हें जल्द पूरा करें। उन्होंने कहा कि सभी गांवों में तालाबों के कारण ऑवर फ्लो की समस्या नहीं होनी चाहिए। भविष्य को देखते हुए प्लान बनाया जाए कि जिन गांवों में इस प्रकार की संभावित समस्या होने का अंदेशा है, वहां पर पूर्व में ही पूरे इंतजाम कर लिए जाएं ताकि लोगों को किसी प्रकार की समस्या नहीं हो।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।