कोरोना से प्रभावित रहेगा गजसिंहपुर महान गुरमत समागम
September 15th, 2020 | Post by :- | 47 Views

गजसिंहपुर, (यश कुमार) । कस्बे के स्थानीय गुरद्वारा सिंह सभा में 75वें महान गुरमत समागम को समर्पित इलाके में सुख समृद्धि व अमन शान्ति की कामना को लेकर 14 सितंबर सोमवार को श्रीअखंड पाठ का प्रकाश रखा गया पाठ के भोग बुधवार को सम्पन्न होंगे गौरतलब है कि आजादी के वक़्त हुई हिंदू मुस्लिम त्रासदी के समय से यहां गुरमत समागम की शुरुआत हुई थी जिसमें पाक सीमा क्षेत्र से यहां भारत पहुंचे हिन्दू-सिक्खों को रहने के लिए गुरुघर की छत और पेट भरने के लिए लगातार लंगर सेवा बरताई गई थी
गुरद्वारा उच्च कमेटी सदस्य भूपेंद्र सिंह, गुरदयाल सिंह हुंदल गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी प्रधान कृपाल सिंह डंग व उजागर सिंह निवासी 3 बीबीए ने जानकारी दी की इस बार कोरोना का असर समागम पर भी रहेगा केवल श्रीअखंड पाठ साहिब का प्रकाश होगा कोरोना महामारी के चलते न तो दिवान सजेगा और न ही समागम में संगत का जमावड़ा होगा व आस पास की संगत के लिए सोशल डिस्टेंसिंग नियमों के तहत लंगर सेवा होगी वही प्रधान कृपाल सिंह डंग ने बताया कि युवाओं को नशे से दूर रखने के लिए हर साल होने वालो ओपन कब्बडी कोरोना रोकथाम नियमों के चलते इस बार नहीं करवाई जाएगी ।

सेवादार त्रिलोचन सिंह टीटू, सुरजीत डंग, गुरदीप सिंह फौजी, सेवादार भूपेंद्र कंग, स्वर्णसिंह टेलर मास्टर, त्रिलोचन सिंह लोहारा, दलजीत सिंह, अंग्रेज सिंह, इंद्र सिंह, राजेंद्र कुमार,जसविंदर सिंह सेवादार इत्यादि दिन रात संगत की सेवा में जुटे हुए हैं सुखमनी सेवा सोसाइटी, गुरुनानक सेवादल, स्त्री सतसंग सभा, व जोड़ा घर सेवा समिति, भाई घनईया सेवा सोसाइटी दिनरात सेवारत है वही उन्होंने बताया कि गुरुद्वारा सिंह सभा मे संगत द्वारा आज तक 94 श्रीअखंड पाठ करवाए जा चुके हैं 95 वें पाठ के साथ एक माह से जारी समागम सम्पन्न होगा गौरतलब है कि यह समागम के प्रति श्रद्धा का अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता है कि समागम में दिल्ली, हरियाणा, पंजाब सहित देश-विदेश से सिख संगत पहुंचती है और तीन दिन रागी व ढाडी जत्थों द्वारा गाए जाने वाले सिक्खों के गौरवशाली इतिहास का श्रवण करते हुए संगत की सेवा करती हैं यहां विशाल बाजार भी सजाए जाते हैं और दूर दराज के लोग रोजी रोटी कमाने आते हैं लेकिन इस बार कोरोना महामारी की मार के कारण यहां संगत का सैलाब नहीं आएगा ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।