हरियाणा गवर्नमेंट पीडब्ल्यूडी मैकेनिकल वर्कर्स यूनियन की मीटिंग जन स्वास्थ्य विभाग के कार्यालय में आयोजित की गई|
September 15th, 2020 | Post by :- | 58 Views

पलवल (मुकेश कुमार हसनपुर) 15 सितम्बर :- होडल सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा से संबंधित हरियाणा गवर्नमेंट पीडब्ल्यूडी मैकेनिकल वर्कर्स यूनियन रजिस्टर नंबर 41 की मीटिंग जन स्वास्थ्य विभाग के कार्यालय में आयोजित मीटिंग की अध्यक्षता ब्रांच सचिव सुरेश चन्द ने की राज्य के प्रचार सचिव राकेश तंवर, राज्य कमेटी के सदस्य व सर्व कर्मचारी संघ जिला पलवल के  सचिव योगेश शर्मा, सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के ब्लाक होडल के प्रधान उदय वीर सौरोत मैकेनिकल वर्कर्स यूनियन के जिला प्रधान बीर सिंह सौरोत ने उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के उस बयान पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बताया कि हरियाणा सरकार जल घरो  को पंचायतों के हवाले कर के साफ पानी जनता को पिलाने की अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ रही है।

मैकेनिकल वर्कर्स यूनियन के जिला प्रधान बीर सिंह सौरोत व   योगेश शर्मा ने होडल जन स्वास्थ्य  विभाग कार्यालय पर मीटिंग को संबोधित करते हुए बताया कि पंचायतों के पास न तो उचित प्रबंधन है, ना ही कोई बजट की व्यवस्था है ,ना ही कोई तकनीकी ज्ञान है ,पंचायतों के पास उचित संसाधन न होने से यह जल व्यवस्था पूर्ण रूप से चरमरा सकती है। जिसका खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ेगा। पिछली सरकार ने भी वर्ष 2005 में काफी जल घरों को पंचायतों के हवाले किया था। उन जल घरों की आज हालात देख सकते हैं,उन जल घरों के अंदर भैंसों के तबेले बने हुए हैं ।कहीं पर उपले व उपलों के ढेर लगे हुए हैं। पंचायतों को हस्तांतरित होने से पहले वह जल घर पार्को  से भी सुंदर दिखाई देते थे।

आज वह जलघर अपनी दशा पर आंसू बहा रहे  हैं।गांव की जनता को बिना ट्विन ऑक्साइड व बिना क्लोरीन के गंदा पानी पीने को मिल रहा है। वह भी समय पर व उचित मात्रा में नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने बताया कि जल घरों को पंचायत से देने का काम भी बात निजीकरण को बढावा देने वाला व नौजवानों को रोजगार से वंचित होना पड़ेगा।एक तरफ मोदी सरकार बड़े-बड़े रेलवे व खदानों जैसे विभागों का निजीकरण कर रही है तो वहीं दूसरी ओर हरियाणा सरकार भी पानी पीने जैसी मूलभूत सुविधाओं को पंचायतों के हवाले करके एक तरह से निजी करण कर रही है ।

उन्होंने हरियाणा सरकार से अपील की है कि पिछली सरकारों के फैसलों की समीक्षा करते हुए अपने इस फैसले पर पुनर्विचार करें क्योंकि जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग हरियाणा में शुद्ध व साफ पानी देने में देश में प्रथम स्थान पर है विभाग का एक लंबा अनुभव है व बहुत बड़ा यांत्रिकी बेडा है जो इस फैसले के बाद पूर्ण रूप से तहस-नहस हो जाएगा तथा जनता को भी साफ व शुद्ध पानी नहीं मिलेगा ।सरकार ने यदि अपने फैसले पर पुनर्विचार नहीं किया तो हरियाणा गवर्नमेंट पीडब्ल्यूडी मैकेनिकल वर्कर्स यूनियन 15 अक्टूबर को सरकार के इस फैसले व अन्य मांगों को लेकर पूरे प्रदेश में जिला स्तर पर विरोध प्रदर्शन करेंगे ।उनके साथ ही इस अवसर पर ब्रांच कोषाध्यक्ष सतवीर चौहान, श्यामलाल,सतदेव  आदि उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।