मंदिरों में सेवा पूजा को आवश्यक सेवाओं में शामिल करने व जारी की गई गाइडलाइन में बदलाव करने हेतु गोविंददेव जी महंत अंजन कुमार गोस्वामी द्वारा प्रधानमंत्री को लिखा पत्र
September 15th, 2020 | Post by :- | 30 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । मंदिरों में की जाने वाली सेवा पूजा को आवश्यक सेवाओं में शामिल करने के लिए व मन्दिरों के लिए जारी की गई अनलॉक गाइडलाइन प्रक्रिया में बदलाव लाने के लिए गोविंददेव जी महंत श्री अंजन कुमार जी गोस्वामी द्वारा प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा गया। जिसमे महंत अंजन कुमार गोस्वामी जी ने बताया कि चेतन्य महाप्रभु और श्री रूप गोस्वामी जी का प्रत्यक्ष वंशज होने से माधव गोंडिय चैतन्य संप्रदाय की मुख्य पीठ है। यह आध्यात्मिक वैदिक अनुष्ठान का मुख्य केंद्र भी है। यहां पर राधा गोविंद देव जी की सेवा पूजा पिछले 500 वर्षों से निरंतर चलती आ रही है। इस वंश में वर्तमान में महंत व एकल प्रन्यासी के रूप में मैं एक जिम्मेदार हूं। इसलिए मेरा कर्तव्य व मेरी जिम्मेदारी बनती है कि मैं दर्शनार्थी और भक्तों की इच्छा के लिए लॉकडाउन के बाद मन्दिर को फिर खोले जाने को लेकर और आपका ध्यान इस ओर आकृष्ट किया जाए की मंदिर में की जाने वाली सेवा पूजा को आवश्यक सेवाओं में शामिल किया जाए क्योंकि धर्म की ज्योति जलाए रखना भी जीवन का एक अभिन्न अंग है व भारतीय संस्कृति की पहचान भी है। जिस प्रकार से बाजार में खानपान की व सामान की बिक्री की अनुमति है लेकिन मंदिरों में चरणामृत व प्रसाद वितरण की मनाही कर दी गई है लेकिन चरणामृत व प्रसाद से तो अंतःकरण की शुद्धि होती है। इसलिए मंदिरों में प्रसाद व चरणामृत भी चालू करवाया जाए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।