सरकार लाल आंख चीन को दिखाए,अन्नदाता को नहीं :- विधायक वरुण चौधरी
September 12th, 2020 | Post by :- | 165 Views

अंबाला , मुलाना ( गुरप्रीत मुल्तानी )

एक तरफ बीजेपी अध्यदेशों को बिल में परिवर्तित करके लोकसभा में रख रही है और दूसरी तरफ सांसदों की कमेटी बनाकर प्रदेश के किसानों के आंखों में धूल झोंक रही है।इससे भाजपा सरकार की कथनी और करनी में फर्क नज़र आ रहा है।
केंद्र सरकार ने किसान विरोधी तीनों अध्यदेशों को कानून बनाने के लिए 14 सितंबर को शुरू होने वाले लोकसभा सत्र में प्रस्ताव रख दिया है जो किसान के लिए घातक है।यदि प्रदेश भाजपा सरकार किसानों की हितैषी है और उनका भला चाहती है तो इन तीनों काले अध्यदेशों को केंद्र सरकार से वापस करवा कर किसान हितेषी फैसला ले। ये बात मुलाना विधायक वरुण चौधरी ने कही।वरुण चौधरी आज मोहड़ा में लाठीचार्ज में घायल हुए किसान नरेंद्र सिंह,अमरजीत सिंह,जितेन्द्र सिंह,मलकीत सिंह,के घर उनका हाल जानने पहुंचे थे।विधायक ने कहा कि कृषि पर आधारित तीन अध्यादेश का विरोध कर रहे किसानों पर गुरूवार को पिपली में लाठीचार्ज व किसानों पर दर्ज किए गए मुकदमें निंदनीय व दुर्भाग्यपूर्ण है।
निहत्थे किसानों पर हत्या के प्रयास का केस बनाना भाजपा सरकार की किसान विरोधी मानसिकता को दर्शाता है
उन्होंने कहा कि सरकार को जो लाल आंख चीन को दिखानी चाहिए थी वह देश के अन्नदाताओं दिखाने का काम कर रही है।किसान शांतिपूर्ण ढंग से अपने मांगें रखने के लिए पिपली में एकत्र होने के लिए जा रहे थे। उन्हें रास्ते में रोकना और उन पर लाठीचार्ज करना और बेकसूर किसानों पर मुकदमे दर्ज किए गए जो गलत है।इस व्यवहार की जितनी भी निंदा की जाए कम है। विधायक ने सरकार से बेकसूर किसानों पर दर्ज किए मुकदमे वापिस लेने की मांग की।विधायक ने कहा कि सरकार किसानों के साथ दमनकारी नीति अपना रही है। किसान और व्यापारियों द्वारा अध्यादेशों का विरोध किया जा रहा है। अध्यादेश पूरी तरह से लागू होने पर किसान,आढ़ती व मजदूर वर्ग बर्बादी के कगार पर पहुंच जाएंगे। इसलिए सरकार को अध्यादेश को रद्द करना चाहिए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।