इस दृश्य को देखकर अबाक रह गए लोगो के मुह से सिर्फ एक ही आह निकली बो ये ” कि रहम करो प्रभु”
September 10th, 2020 | Post by :- | 85 Views

भरतपुर।( शौकत अली )

कोरोना महामारी के शुरुआती दिनों में कोरोना के भय से त्रस्त हजारो प्रवासी मजदूरों के दुखद ब कष्टप्रद पलायन के दृश्यों ने लोगो के कालेजो को दिया था दहला और लोग अभी भूल भी नही पाये है इन दृश्यों को लेकिन इसी बीच राजस्थान में भरतपुर के भुसाबर कस्वे में छौंकरवाड़ा सड़क मार्ग के स्टेट मेगा हाइवे नंबर- 45 पर पिछले दिनों लोगो को नजर आए एक ऐसे ही एक भयावह दृश्य से सोशल मीडिया से लेकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया तक खीच गया है सन्नाटा। इस दृश्य को देखकर अबाक रह गए लोगो के मुह से सिर्फ एक ही आह निकली बो ये ” कि रहम करो प्रभु”। गाड़िया लुहार परिवार के एक युवक को बैल की जगह बैलगाड़ी से जुता हुआ देखकर अबाक रह गए लोगो ने जीवन मे भी नही की थी कल्पना ऐसे दृश्य को अपनी आंखों से देखने की। युवक ने बताया कि कोरोना के इस संकटकाल में उसके एक बैल की हो गयी है मृत्यु दूसरा खरीदने को नहीं हैं उसके परिवार के पास पैसे इसलिए बैल की जगह वह स्वयं बैलगाड़ी में लगकर उसे लगा है खींचने कोरोना महामारी के कारण उपजे हालत की तस्वीर यह बताने के लिये काफी है कि हालात कहां से कहां गये पहुंच और हो गये हैं कितने भयावह। शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में चौपट हो चुके रोजगार के कारण लोगो के हाल है बेहाल। परिवार के पेट की आग को शांत करने के लिये गाड़िया लुहार परिवार के इस युवक की तरह लोग हर जोखिम उठाने को है तैयार।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।