जमीन की रजिस्ट्री के लिए ऑनलाईन अपांईंटमेंट का नया सॉफ्टवेयर बना देश में मॉडल, अन्य राज्यों ने अपनाया: उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला
September 9th, 2020 | Post by :- | 43 Views

कैथल(विशाल चौधरी ब्यूरो चीफ)उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि जमीन की रजिस्ट्री के लिए ऑनलाईन अपांईंटमेंट देने हेेतु हरियाणा सरकार द्वारा एक नया सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है, जोकि  देश में एक मॉडल बन कर सामने आया है। इस मॉडल को तेलंगाना राज्य ने भी अपनाया है।
दुष्यंत चौटाला बुधवार को चण्डीगढ़ से वीडियो कॉन्फ्रैंसिंग के माध्यम से जिला उपायुक्तों तथा राजस्व विभाग के अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर वित्त विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव विजय वर्धन व मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी. उमाशंकर उपस्थित थे। उप मुख्यमंत्री ने कहा कि ऑनलाईन अपांईंटमेंट के लिए राजस्व विभाग के अधिकारियों ने गहन रूचि लेकर यह सॉफ्टवेयर तैयार किया है, जिसकी सराहना पूरे देश में हो रही है। इसके लिए सभी अधिकारी बधाई के पात्र है। उन्होंने उपायुक्तों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने जिले में ऑनलाईन अपांईंटमेंट प्रक्रिया पर स्वयं कड़ी नजर रखें, ताकि लोगों को किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े।
उन्होंने यह भी कहा कि सभी उपायुक्त आगामी सप्ताह के अन्दर कलैक्टर रेट स्टैंडंर्डराईज करके वैबसाईट पर अपलोड करवाएं। अब एन.ओ.सी. भी ऑनलाईन मिलनी आरंभ हो चुकी है। उन्होंने स्पष्ट किया कि हॉऊसिंग बोर्ड का डाटा 30 सितम्बर तक वैबहैलरिस के साथ इंटीग्रेटिड हो जाएगा, लेकिन हाल ही में किसी जरूरतमंद व्यक्ति को हाऊसिंग बोर्ड का मकान बेचना या खरीदना है तो सम्बंधित उपायुुक्त के माध्यम से उसकी रजिस्ट्री करवा सकते हैं। वीसी में मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी. उमाशंकर ने बताया कि जमीन की रजिस्ट्री के लिए ऑनलाईन अपांईंटमेंट से संबंधी वैबसाईट पर आ रही समस्या का समाधान कर दिया गया है। वैबसाईट  हैलरिस से प्रोपर्टी आईडी लिंक कर दी गई हैं।
उपायुक्त सुजान सिंह ने बताया कि जिला में नए सॉफ्टवेयर के तहत लोगों को रजिस्ट्री के लिए ऑनलाईन अपांईंटमेंट दी जा रही है। नए सॉफ्टवेयर से अब लोगों को अपनी जमीन की रजिस्ट्री की अपांईंटमेंट के लिए तहसीलों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। उन्होंने बताया कि (जमाबंदीडॉटएनआईसीडॉटइन) वैबसाईट पर जाकर ऑनलाईन अपांईंटमेंट ले सकते हैं, जबकि पहले तहसील में आकर टोकन नम्बर लेना पड़ता था। इस व्यवस्था से भ्रष्टïाचार पर अंकुश लगेगा और कार्यप्रणाली में पारदर्शिता आएगी। इस अवसर पर जिला राजस्व अधिकारी सुरेश कुमार, तहसीलदार सुदेश मेहरा, डीआईओ दीपक खुराना, नायब तहसीलदार वीरेंद्र कुमार, भूप सिंह, हरदेव सिंह उपस्थित रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।