हर सिख की अकाल तख्त साहिब में पूर्ण आस्था, लेकिन राजनीतिकरण सहन से परे :- गुरू ग्रंथ साहिब सेवक ट्रस्ट
September 6th, 2020 | Post by :- | 33 Views

अंबाला , बराड़ा ( गुरप्रीत मुल्तानी )
गुरु ग्रंथ साहिब सेवक ट्रस्ट हरियाणा के सदस्यों की बैठक का आयोजन बराड़ा में किया गया । बैठक का मुख्य उद्देश्य सिख प्रचारक भाई रणजीत सिंह टडरिया वाले का पक्ष व अकाल तख्त साहिब के जत्थेदारों द्वारा की जा रही राजनीति का विरोध करना रहा । बैठक में ट्रस्ट के मुख्य सेवादार परमजीत सिंह ने कहा कि भाई रणजीत सिंह अपने धार्मिक समागमों में श्री गुरू ग्रंथ साहिब जी की विचारधारा को आगे बढ़ाने का काम कर रहे है। भाई रणजीत सिंह ने सच के साथ चलकर व पाखंडवाद से हटकर युवाओं सहित संगत को सच्ची राह दिखाई है।
लेकिन इसी सच के कारण उन्हें आज अकाल तख्त साहिब के जत्थेदारो की राजनीति का शिकार होना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि जत्थेदारों को सच सुनना पसंद नहीं है। इसलिए ऐसे जत्थेदार सिख संगत को गुमराह कर रहे है । छबील लगाकर भाई रणजीत सिंह पर हुए हमले पर उक्त जत्थेदारों द्वारा एक भी प्रतिक्रिया नहीं दी गई । जोकि भाई रणजीत सिंह के साथ हो रहे पक्षपात को दर्शाता है । उन्होंने कहा कि लाखों की संख्या में संगत भाई रणजीत सिंह को सुनती है । जोकि उनके सच्चा होने का प्रमाण हैै।
उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि शिरोमणि कमेटी द्वारा संगत के पैसों से 97 लाख के इश्तिहार बांट दिए जाते है। ये कैसा सिद्धांत है। संगत के पैसे का गलत प्रयोग किया जा रहा है । इसके अलावा गुरू ग्रंथ साहिब जी के लापता स्वरूपों पर उक्त जत्थेदारो द्वारा आज तक कोई कार्रवाई न करते हुए जांच कमेटी तक का गठन नहीं किया है । जोकि कहीं न कहीं अकाल तख्त साहिब की मर्यादा कायम रखने को लेकर धोखाधड़ी साबित हो रही है।
उन्होंने कहा कि हर सिख अकाल तख्त साहिब में पूर्ण आस्था रखता है लेकिन वहां हो रही राजनीति का हर सिख विरोध करता है । उन्होंने कहा कि आज जो जत्थेदार भाई रणजीत सिंह के खिलाफ राजनीति पर उतर आए वो शर्मनाक है व गुरु ग्रंथ साहिब सेवक ट्रस्ट हरियाणा इस राजनीतिकरण का पुरजोर विरोध करती है व भाई रणजीत सिंह जैसे सच्चे सिख प्रचारक का समर्थन करती है।

इस मौके पर सुखदेव सिंह, गुरमीत सिंह, प्रीतपाल सिंह , त्रिलोचन सिंह , सुखविंदर सिंह , रणजीत सिंह नहौनी, चणप्रीत सिंह व हरमिंदर सिंह सहित ट्रस्ट सदस्य उपस्थित रहे ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।