वार्ड नं.5 में डेंगू और चिकनगुनिया की रोकथाम के लिए करवाया गया रासायनिक छिड़काव
September 5th, 2020 | Post by :- | 131 Views

बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ(गौरव शर्मा)

*भारतीय किसान यूनियन (अ) जिलाध्यक्ष : -प्रवीन दलाल* ने बताया कि बरसात के मौसम में कई तरह की बीमारियां फैलने का खतरा बढ़ गया है । इसको देखते हुए *इनेलो महिला हल्का अध्यक्ष प्रोफेसर: सीमा प्रवीन दलाल* ने शहर के वार्ड नं.5 में डेंगू औऱ चिकनगुनिया की रोकथाम के लिए *नीतेश उर्फ सैंकी,अतर सिंह,कालू* इत्यादि के सहयोग से रासायनिक छिड़काव करवाया गया ।

*(भा.की.यू.)के जिलाध्यक्ष प्रवीन दलाल* ने कहा कि एक तो प्रदेश पहले से ही विश्व्यापक Covid-19 जैसी महामारी से जूझ रहा अब स्वास्थ्य विभाग,व नगरपरिषद द्वारा डेंगू और चिकनगुनिया, मलेरिया की रोकथाम के लिए कारगर कदम उठाने की बजाए खानापूर्ति किया जा रहा है ।

*-प्रवीन दलाल* ने बताया कि सासन व प्रसासन द्वारा गाँव और शहर में अभी तक डेंगू व चिकुनगुनिया की रोकथाम के लिए कोई भी रासायनिक दवाओं का छिड़काव नही किया जा सका है । ऐसी सिथति में विभिन्न बीमारियों फैलने का खतरा बढ़ गया है ।
●डेंगू के मछर बारिस के पानी,छतों या कूलर में जमा होने से पैदा होते है ।
●चिकनगुनिया मछर काटने के 2 से 7 दिनों के दौरान इसके लक्ष्ण दिखाई देते है ।चिकनगुनिया से सरीर (चकते) लाल निशान निकल आते है और प्रकाश सहन नही होता,भूख कम लगना, जी घबराना और कमजोरी जैसे चिकनगुनिया के लक्ष्ण है ।
चिकनगुनिया अफ्रीकी भासा से आया है । इसका अर्थ है “जो झुका दे” एडीज एजिप्टी नाम के मच्छर के काटने से वायरल बुखार हो जाता है ।
◆इनकी रोकथाम के लिए सभी कूलरों को हफ्ते में एक बार साफ करना चाहिए ।
जिन कूलरों को साफ नही किया जा सकता उनमे पैट्रोल या केरोसिन डालना चाहिए
छत पर और दूसरी जगहों पर पानी की टँकीयो को ढक कर रखना चाहिए। अपने कार्यालय या आस-पास पानी इखट्टा न होने दे। साफ सफाई का विषेस ध्यान रखे । रात में मच्छर दानी का प्रयोग करे । पूरी शरीर को ढकने वाले कपड़े पहने,खाली व बेकार टूटी बोतले,कप, गमले,और टायर इत्यादि को खुले में न छोड़े । बुखार होने पर तुरन्त डॉक्टर से मिले और आराम करे ।

*-प्रवीन दलाल* ने बताया की सरकार को स्वास्थ्य विभाग, सामुदायिक केंद्रों, आँगनबाड़ी सहायकों,वर्करों,आशा वर्करों और एनएम को प्रशिक्षण देकर अति सीघ्र कार्य करवाना चाहिए। लेकिन अभी तक नगरपरिषद और स्वास्थ्य विभाग द्वारा न तो गलियो व नालो में किसी तरह का कोई छिड़काव करवाया गया है और न ही कोई कोई ठोस कदम उठाए गए है। डेंगू व चिकनगुनिया के नाम पर केवल खानापूर्ति की जा रही है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।