शिक्षक ही है भविष्य निर्माता :- प्रो. विवेक शर्मा
September 5th, 2020 | Post by :- | 78 Views

लाडवा (गोस्वामी )- दून पब्लिक स्कूल ने शिक्षक दिवस पर शिक्षकों को सम्मान देते हुए ऑनलाइन कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम का शुभारंभ माँ सरस्वती वंदना से किया गया। प्राचार्या डॉ अनीता शर्मा ने सभी अध्यापकों को शिक्षक दिवस तथा श्री सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिवस की बधाई देते हुए कहा कि अध्यापक देश के भविष्य निर्माता व आज के योद्धा हैं और वंदनीय हैं। स्कूल के विद्यर्थियों द्वारा अध्यापकों के सम्मान में अदभुत सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।
इस कार्यक्रम में स्कूल के सभी विद्यार्थियों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। विद्यार्थियों ने नृत्य,भाषण, गायन व काव्य पाठ आदि प्रस्तुतियाँ दी। निकुंज, कृशिका, और कर्णदीप, जशनूर ने भाषण के माध्यम से शिक्षक की महत्ता का विस्तारपूर्वक पूर्वक वर्णन किया। अवनी,कुशल,यशिका,हर्षिता, एकमदीप सिंह, कुणाल और नियती ने नृत्य के द्वारा अध्यापक के प्रति आभार व्यक्त किया। जनिश, आदविक सिंगला, विहान, नवकीरत, कनिशिका, एकम डिलों, युवराज, नवदीप कौर और अमनदीप कौर ने शिक्षकों की वेशभूषा धारण करकविता के माध्यम से उनके प्रति अपने भावों को प्रकट किया। वंशिका, परवनी मान, यश्मीत, विहान, तेजस्वी, रोजल मान, कृषिका, वीरेन, यश्मीत कौर और जनीश ने अध्यापकों के लिए ग्रीटिंग कार्ड भी बनाए गए। सभी विद्यार्थियों की प्रस्तुति एक से बढ़कर एक रही। स्कूल डायरेक्टर प्रमोद शर्मा द्वारा सभी शिक्षक गणों को शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं दी गई। उन्होंने बच्चों को शिक्षक दिवस के बारे में जानकारी दी और बच्चों को शिक्षक दिवस पर डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन से सीख लेने के लिए प्रेरित किया। स्कूल वाइस प्रिंसिपल अनीता जिंदल द्वारा बच्चों का उत्साहवर्धन किया गया। शिक्षक दिवस के इस ऑनलाइन कार्यक्रम में स्कूल चेयरमैन के के गर्ग, चेयर पर्सन सुधा गर्ग, पार्टनर व अकेडमिक डायरेक्टर प्रोफेसर विवेक शर्मा और मैनेजर ईशान सिंगला द्वारा सभी शिक्षक गणों को शिक्षक दिवस की शुभकामनाएं दी गई। अभिभावकों ने भी स्कूल के प्रति अपना आभार प्रकट किया और शिक्षकों को हार्दिक शुभकामनाएं दीं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।