श्राद्ध के दिनों में रोड पर खड़ी गाय को  पूरी  देने वाला बनेगा पाप का भागी
September 3rd, 2020 | Post by :- | 66 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ(गौरव शर्मा)
श्राद्ध के दिनों में रोड पर खड़ी गाय को  पूरी  देने वाला  पाप का भागी बनेगा। जी हां अगर आपने या आपके किसी परिवार वाले ने श्राद्ध के दिनों में पूर्वजों को खुश करने के लिए गाय के नाम के भोग में पूरी निकालकर रोड पर खड़ी गाय को पूरी दी तो आप निश्चित रूप से पाप के भागी बनेंगे, यह कहना है बेसहारा गोवंश एवं अन्य सभी प्रकार के बेसहारा घायल जीवों का उपचार करने वाली गौधन सेवा समिति का। जारी एक बयान में गौधन सेवा समिति पदाधिकारियों ने बताया कि  गाय का पेट तली हुई चीजों को एक सीमा तक ही हज़म कर सकता है अगर आप एक सीमा से ज्यादा तली हुई चीजें पूरी, हलवा या फिर कोई अन्य पदार्थ देंगे तो वह उसके पेट के अंदर जाकर गैस पैदा करता है जिसकी वजह से अफारा बनकर उसकी नसों के अंदर जहर घुल जाता है और वह धीरे-धीरे अफारा आकर तड़प तड़प कर मर जाती है। श्राद्ध के दिनों में हम अपने घरों के अंदर तली हुई पूरियों का भोग निकालते हैं और उसे गली में खड़ी गाय को दे  देते हैं। हम सोचते हैं कि हमने  तो सिर्फ दो ही पूरियां दी हैं। लेकिन हम यह नहीं सोचते कि हमसे पहले इस गाय को कितने आदमी दो दो पूरियां दे चुके हैं और हमारे  बाद  और कितने आदमी इस गाय को दो-दो पूरिया देंगे। हम यह भी नहीं सोचते कि  आखिर यह  गाय कितनी पूरी हजम कर पाएगी।  अगर एक एक व्यक्ति दो दो पूरी देगा तो मोहल्ले के अंदर अगर 50 घर है तो 100 पूरियां हो गई। ये 100 पूरियां खाने के 4 घंटे बाद गाय के पेट में गैस बनेगी और  8 या 10 घंटे बाद उसके नसों के अंदर जहर घुलेगा और  पेट में अफारा आने के बाद गाय तड़प-तड़प कर दर्दनाक मौत मर जाएगी। अगर आपको अपनी धार्मिक आस्था के चलते गाय को कुछ खिलाना है तो पूरी या हलवे की बजाय बिना चुपड़ी सादी रोटी खिलानी चाहिए। गौधन सेवा समिति पदाधिकारियों ने बताया कि हर वर्ष श्राद्ध, नवरात्रों व अन्य धार्मिक अवसरों पर लोग धार्मिक आस्था के चलते गाय को पूरी, हलवा व अन्य चिकनाई वाली खाने की चीजें खिलाते हैं। जिसके चलते इन धार्मिक अवसरों पर हर वर्ष अनेक गोवंश बड़ी दर्दनाक मौत मरते है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।