एचटेट की परीक्षा के नाम पर सरकार ने किए सैंकडों करोड इकट्ठे : रणबीर शर्मा
August 29th, 2020 | Post by :- | 44 Views

कुरुक्षेत्र, ( सुरेशपाल सिंहमार )    ।     राष्ट्रीय लोकस्वराज पार्टी के अध्यक्ष व हरियाणा के पूर्व आईजी रणबीर सिंह शर्मा ने हरियाणा में शिक्षक पात्रता टेस्ट के मामले में हरियाणा सरकार को घेरा है। रणबीर सिंह शर्मा ने आरोप लगाया कि हरियाणा सरकार ने एचटेट के नाम पर सैंकडों करोड रूपए एकत्रित कर लिए हैं और नौकरी देने के नाम पर जीरो नजर आते हैं। ऐसे में क्यों हरियाणा सरकार बेरोजगार युवाओं को लुटने का काम कर रही है। रणबीर सिंह शर्मा शनिवार को कुरुक्षेत्र में एचटेट यूनियन के अध्यक्ष राजेश द्वारा ली गई आरटीआई रिपोर्ट  में हुए खुलासे को लेकर बातचीत कर रहे थे।

रणबीर सिंह शर्मा ने कहा कि आरटीआई की रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि 2014 से 2019 तक 1679688 ने जे.बी.टी, टी.जी.टी. व पी.जी.टी. की शिक्षक पात्रता टेस्ट के लिए परीक्षा दी। इन परीक्षाओं में 2014 में 272449 ने परीक्षा दी, 2015 में 401276, 2017 में 412024, 2018 में 332366 व 2019 में 261573 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी। इनमें पास होने वालों की संख्या काफी कम रही। 2013-14 में 22000 परीक्षार्थी पास हुए। 2015-16 में कुल 45747 परीक्षार्थी पास हुए। 2017-18 व 2019 में 27500 परीक्षार्थी पास हुए। यानि कि जब से भाजपा सरकार आई है तब से अब तक कुल 1679688 परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी जबकि 95247 परीक्षार्थी पास हुए।

दिसंबर तक ज्यादातर की हो जाएगी पात्रता समाप्त
रणबीर सिंह शर्मा ने कहा कि इन परीक्षार्थियों में से 2014 में पास होने वाले 22 हजार पात्रों की पात्रता समाप्त हो चुकी है, जबकि इनमें से लगभग 2800 पात्र ऐसे भी हैं जिनकी नौकरी की उम्र निकल चुकी है। 2016-17 में जो 45747 पास हुए थे, उनकी पात्रता भी दिसंबर 2020 में समाप्त हो जाएगा। इसके बाद सिर्फ 27500 पात्र ही बच जाएगें, जो नौकरी के अप्लाई कर सकेंगें।

बहुत बडा घोटाला है एचटेट परीक्षा
शर्मा ने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार द्वारा एचटेट के लिए परीक्षा ली जाती है, इनमें से बच्चे पास भी हो रहे हैं लेकिन पास होने के बाद भी ये लोग धक्के खाते फिर रहे हैं। इनका जिम्मेवार कौन है? बेरोजगारी के कारण ये लोग आत्म हत्या करने को मजबूर हो रहे हैं। उन्होने कहा कि परीक्षा के लिए प्रत्येक परीक्षार्थी से 1 हजार रूपए फीस के रूप में लिए जाते हैं। ऐसे में इन वर्षो में परीक्षार्थियों से लगभग 170 करोड रूपए सरकार द्वारा ले लिए गए। एचटेट परीक्षा के नाम पर सरकार द्वारा इनता मोटा पैसा हडप लेना बडे घोटाले की ओर इशारा कर रहा है। वहीं यह बात भी विचारनीय है कि बेरोजगार युवा जोकि एक-एक  पैसे के मोहताज हो जाते हों, इनसे परीक्षा के नाम से पैसे हडपना कहां तक सही है।

लगभग 12 हजार पद हैं खाली
रणबीर सिंह शर्मा ने कहा कि हरियाणा में 5695 पद शिक्षकों के आज भी खाली पडें हैं जबकि 6000 गेस्ट टीचर्स के पद भी खाली जैसे ही हैं लेकिन सरकार ने आज तक यह जहमत नही उठाई कि इन पात्रता परीक्षा पास कर चुके युवाओं को स्थाई नौकरी पर रखा जाए। शर्मा ने कहा कि नवंबर 2019 में अदालत ने भी इस मामले में हस्तक्षेप करते हुए जुलाई-2020 तक इन खाली पदों को भरने के लिए आदेश जारी किए थे लेकिन सरकार के कानों पर आज तक भी जूं तक नही रेंगी, जिस कारण प्रदेश में बेरोजागरी बढती जा रही है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।