अब नए निर्देश के अनुरूप कर सकेंगे परिजन परिजनों के सामने सरकारी नुमाइंदें लावारिश की तरह कोरोना पॉजिटिव मृतक के शव का अब नही कर सकेंगे अंतिम संस्कार
August 27th, 2020 | Post by :- | 132 Views

भरतपुर। ( शौकत अली )

 

कोरोना के इस संकटकाल में कोरोना संक्रमित मरीज की मौत के बाद उसके अंतिम संस्कार के छीन लिए गए लोगों के अधिकार को सरकार ने लौटा दिया है बापिस। कोविड पॉजिटिव परिजन की मौत पर शव का अंतिम संस्कार अब नए निर्देश के अनुरूप कर सकेंगे परिजन।परिजनों के सामने सरकारी नुमाइंदें लावारिश की तरह कोरोना पॉजिटिव मृतक के शव का अब नही कर सकेंगे अंतिम संस्कार। परिजनो को अब दूर खड़े होकर बेबसो की तरह नही देखनी पड़ेगी अपनो की अंतिम बिदाई। सरकार ने सख्त शर्तों के साथ परिजनों को अंतिम संस्कार करने की दे दी है छूट। अंतिम संस्कार के मामले में स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम को दी गई है दिशा निर्देशों की सख्ती से पालना करने की हिदायत। अपने परिजनों के शव को श्मशान ले जाने के लिए अब घण्टो तक नहीं करना पड़ेगा वाहन का इंतजार। परिजन खुद अपने स्तर पर कर सकेंगे वाहन की व्यवस्था। मृतक का शव लेने के लिए अधिकतम ५ परिजनों को ही मिलेगी अनुमति। मृतक के परिजनों को खुद करनी होगी पीपीई किट की व्यवस्था। शव को निजी वाहन या एम्बुलेंस से सीधा ले जाना होगा श्मशान। शव को घर या कही और नहीं ले जा सकते। मृतक के शव को पीपीई किट से नहीं निकाला जाएगा बाहर। अंतिम संस्कार के बाद श्मशान या कब्रिस्तान, एम्बुलेंस आदि को करना होगा सेनेटाइज। हाइपोक्लोराइड का छिड़काव कर 30 मिनट बाद ही वाहनों को किया जाएगा रवाना। अंतिम क्रिया के बाद शव की राख पात्र में टेग लगवाकर रखी जाएगी सुरक्षित। अंतिम संस्कार होने तक नगर निगम के दो कार्मिक परिजनों के साथ रहेंगे मौजूद।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।