जंगलात विभाग के वर्करों को 5 माह से नही मिली तनख्वाह ,वर्करों ने लंबे सँगर्ष की दी चेतावनी ।
August 27th, 2020 | Post by :- | 118 Views
जंगलात विभाग के वर्करों को  5 माह से नहीं मिली तनख्वाह ।

जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
डेमोक्रेटिक जंगलात कर्मचारी यूनियन की आज ऑनलाइन मीटिंग राज्य प्रधान रछपाल सिंह जोधनगरी की अध्यक्षता में हुई ।इसमें शामिल बलवीर सिंह सिविया राज्य महासचिव और अलग अलग डिवीजनों व जिला के नेताओं ने सरकार को कोसते हुए कहा कि हम अप्रैल माह से लगातार काम करते आ रहें हैं ।पर कैप्टन सरकार क्रोना की आड़ में कान बन्द कर सोई हुई है। इन अधिकारियों और सरकार को मज़दूरों के घरों के चूल्हे ठंडे हुए दिखाई नही दे रहे और ना ही वातावरण को शुद्द करने में लगे हुए यह मजदूर दिखाई द्व रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब वातावरण के प्रोग्राम के समय पौधे लगाने की हर मंत्री अपनी तस्वीर अखबारों में लगवाता है। परन्तु क्रोना म्हांमारी समय किसी भी मंत्री और नेता को इन पौधों को तैयार करने वाले मजदूरों के रोटी वाले डिब्बे पर नज़र नही मारी।
मजदूरों द्वारा यह कहा गया है कि यदि 31 अगस्त तक हमें पंजाब सरकार द्वारा तनख्वाह नही दी गई तो हम पंजाब के सभी जंगलात विभाग के वर्कर एकजुट होकर पंजाब सरकार और लेबर कमिश्नर खिलाफ जबरदस्त रोष प्रदर्शन करेंगे ।उन्होंने कहा कि जब तक हमे लेबर कमिश्नर द्वारा भत्तों में किये बढ़ोतरी को लागू नही किया जाता और मजदूरों को तनख्वाह नही दी जाती तब तक पंजाब सरकार और लेबर कमिश्नर का विरोध जारी रहेगा। पंजाब और यू टी सँगर्ष मोर्चे द्वारा जिला स्तर की रैलियों में शामिल होंगे 7 सितंबर से लेकर 15 सितंबर तक लेबर कमिश्नर के दफ्तरों के आगे धरने आए रोष प्रदर्शन किए जाएंगे। इसकी जिम्मेदारी पंजाब सरकार की होगी। इस मौके पर हरजीत कौर समराला ,कुलदीप लाल मत्तेवाड़ा ,बलकार सिंह भक्खड़ ,बलवीर सिंह गिल्लां वाला ,दिवान सिंह तरनतारन ,गुरदीप सिंह कलेर ,हरिंदर कुमार एमा ,निर्मल।सिंह गुरदासपुर ,दविंदर सिंह क़ादिया ,अशवनी आलीवाल ,राजकुमार अबोहर ,जगदीश सिंह फाजिल्का ,गुरपीत सिंह मोगा ,जतिंदर सिंह मुक्तसर ,शिंदर सिंह फरीदकोट ,शिंदर सिंह फलियांवाला ,और डी एम एफ के नेता भूपिंदर सिंह वड़ैच ,जर्मनजीत सिंह ,अमरजीत शास्त्री ,सुखविंदर सिंह लील ,और रुपिंदरपाल सिंह गिल हाज़िर थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।