जगमग योजना के कारण आरडीएस और रिकवरी की  चेयरमैन ढेसी  ने घरेलू ग्रामीण बिजली सप्लाई की स्वयं समीक्षा की ।
August 25th, 2020 | Post by :- | 194 Views

-एचईआरसी के चेयरमैन ढेसी ने लाडवा सब स्टेशन पहुंच कर घरेलू ग्रामीण बिजली सप्लाई की स्वयं समीक्षा की 

-म्हारा गांव जगमग गांव योजना के तहत प्रदेश के 4538 गांवों कोमि रही है 24 घंटे बिजली

-1 जुलाई 2015 को कुरुक्षेत्र के दयालपुर से शुरू हुई थी जगमग योजना

कुरूक्षेत्र, ( शिवचरण ) ।   हरियाणा इलेक्ट्रिसिटी रेगुलेटरी कमीशन (एचईआरसी) के चेयरमैन दीपेंद्र सिंह ढेसी ने मंगलवार को जगमग योजना के कारण ग्रामीण घरेलू बिजली सप्लाई और रिकवरी की समीक्षा की। म्हारा गांव-जगमग गांव योजना के तहत प्रदेश के 4538 गांवों में 24 घंटे बिजली मिल रही है। इस योजना की शुरुआत कुरुक्षेत्र के गांव दयालपुर से 1 जुलाई 2015 को की गई थी। इस योजना के तहत कुरुक्षेत्र के भी लगभग सभी गांवों में 24 घंटे बिजली मिल रही है।
चेयरमैन डीएस ढेसी मंगलवार को पिपली पैराकीट में म्हारा गांव-जगमग गांव योजना, उपभोक्ता शिकायत निवारण मंच (सीजीआरएफ)के कार्यों की समीक्षा को लेकर अधिकारियों की एक बैठक को संबोधित कर रहे थे। इसके उपरांत चेयरमैन डीएस ढेसी ने लाडवा स्थित 66 केवी सब स्टेशन जाकर ग्रामीण घरेलू बिजली सप्लाई (आरडीएस) के फीडरों की स्वयं समीक्षा की है और बारीकि से मुल्यांकन भी किया। चेयरमैन ने जिला प्रशासन की ओर से अतिरिक्त उपायुक्त वीना हुड्डा, एसडीएम सोनूराम, यूएचबीवीएन के एसई केएस बोहरिया, एक्सईएन यशवीर सिंह से फीडबैक रिपोर्ट हासिल की है। सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करते हुए चेयरमैन ने एडीसी से किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (कुसुम) स्कीम के बारे में पूछा, इस पर बताया गया कि इस स्कीम का क्रियान्यवन सुचारू रूप से चल रहा है। चेयरमैन ने उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम (यूएचबीवीएन)के अधिकारियों से पूछा कि जगमग योजना के बारे में जानकारी ली तो यूएचबीवीएन के अधिकारियों ने बताया कि 1 जुलाई 2015 को कुरुक्षेत्र के दयालपुर गांव से यह स्कीम शुरू की गई थी, पूरा कुुरूक्षेत्र जिला इस स्कीम में कवर हो रहा है। आरडीएस के तहत यहां पर 95 प्रतिशत तक बिजली बिलों की वसूली हो रही है। एसई बोहरिया ने बताया कि इस सीजन में ढाई करोड़ की बिजली चोरी भी पकड़ी गई है।
एचईआरसी चेयरमैन ढेसी ने सीजीआरएफ के चेयरपर्सन आरके शर्मा को बिजली उपभोक्ताओं की शिकायतों का तुरंत निपटाने के निर्देश दिए, आरके शर्मा ने बताया कि पानीपत की 45, अंबाला की 44 और कुरूक्षेत्र की 25 शिकायतें लंबित है। इस पर चेयरमैन ने कहा कि इन मामलों का जल्द निपटारा किया जाए और 18 सितंबर को एचईआरसी के आफिस पंचकूला में समीक्षा मीटिंग होगी, जिसमें सीजीआरएफ के कार्य का मूल्यांकन किया जाएगा। चेयरमैन दीपेंद्र सिंह ढेसी लाडवा स्थित 66 केवी सब स्टेशन व लाडवा उपमंडल अधिकारी कार्यालय का निरीक्षण किया। इस दौरान चेयरमैन ने सब स्टेशन पहुंचने पर हर फीडर की रीडिंग का बारिकी से अध्ययन किया। आरडीएस को जो बिजली सप्लाई होती है, उसके बाद कैसे बिजली बिल जनरेट किया जाता है, मीटर रीडिंग के लिए क्या-क्या तरीके इस्तेमाल किए जाते हैं, इन सबके बारे में जानकारी हासिल की। जगमग स्कीम के कारण आरडीएस की बिजली सप्लाई और रिकवरी में सुधार की स्वयं समीक्षा की।

चेयरमैन ढेसी को अधिकारियों ने बताया कि लाडवा में बिजली विभाग का सब डिविजन 1962 से हैं। आरडीएस के तहत साढ़े 23 घंटे बिजली सप्लाई उपलब्ध है और जगमग स्कीम लागू होने के बाद अब यहां पर एग्रीगेट टेक्निकल एडं कमर्शियल लॉस(एटीएंडसी) 12 प्रतिशत से कम है, जगमग स्कीम से पहले लाइन लॉस काफी अधिक था। चेयरमैन ने एचईआरसी के डायरेक्टर टेक्निकल वीरेंद्र सिंह को यूएचबीवीएन की हर सब डिविजन के आरडीएस फीडरों का पूरा अध्ययन करने के निर्देश दिए। डायरेक्टर टेक्निकल वीरेंद्र सिंह ने बाद में लाडवा सब डिविजन के कार्य में आरडीएस फीडरों की इनकमिंग और आउटगोइंग बिजली का पूरा अध्ययन किया। इस मौके पर हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम (एचवीपीएन), यूएचबीवीएन के अधिकारियों के अलावा एचईआरसी के डिप्टी डायरेक्टर (मीडिया) प्रदीप मलिक आदि मौजूद थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।