परिवार पहचान पत्र बनाने जैसे गैर-शैक्षणिक कार्य शिक्षकों से न लिए जाए- सलाह
August 23rd, 2020 | Post by :- | 490 Views

कुरुक्षेत्र, लोकहित एक्सप्रेस, (सैनी)। आज कोरोना के इस नाजुक दौर में हमारा शिक्षक वर्ग संकट में है। शिक्षक का मूल कर्तव्य पढ़ाना है जिसकी दूर-दूर तक कोई चर्चा ही नहीं है। पढ़ाने-लिखाने के काम की ओर किसी का ध्यान नहीं है, बेफिजूल रिपोर्ट बनाकर भेजने और वाहियात के कामों को जबरदस्ती शिक्षकों से करवाया जा रहा है। अभी हाल ही में परिवार पहचान पत्र बनाने का काम भी स्कूलों पर जबरन थोंप दिया गया है जबकि यह कार्य 100% गैर-शैक्षणिक है और इस कार्य को करने के लिए एक स्वतंत्र विभाग पहले से मौजूद है। राज्य सरकार के पास ग्राम सचिव और पटवारी हैं आदि हैं जो इस कार्य को करने के लिए प्राथमिक रूप से उत्तरदायी हैं। जमीन का विवरण, आय का विवरण आदि विवरण को सत्यापित करने के लिए यही अधिकृत हैं और इन्हीं के पास रिकॉर्ड उपलब्ध है। इस कार्य को ऑनलाइन करने के लिए ई दिशा केंद्र, CSC संचालक या कोई भी इच्छुक व्यक्ति कर सकता है परन्तु स्कूलों में यह कार्य जबरन थोंप दिया गया है जो कि पूर्णतया गलत है।
जब निदेशालय भी कोरोना जैसी महामारी की वजह से बंद कर दिया जाता है। जहां पर सेनिटाइजेशन और अन्य सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं तो फिर स्कूलों में ऐसा खतरा क्यों मोल लिया जा रहा है। जब सरकारी कार्यालयों का समय 9 बजे से 5 बजे तक है तो स्कूलों में यह कार्य 8 बजे से 5 बजे तक क्यों होगा? सभी को पता है कि स्कूलों में सेनिटाइजेशन-थर्मल स्कैनिंग की जमीनी हकीकत क्या होने वाली है।

सलाह राज्य आई टी सैल प्रभारी अनिल सैनी ने बताया कि सलाह संगठन शिक्षकों से गैर-शैक्षणिक कार्य करवाने का विरोध करता है। शिक्षा अधिकार 2009 में सेक्शन 27 में साफ तौर पर लिखा है कि चुनाव, दशकीय जनगणना और आपदा के समय ड्यूटी के अलावा शिक्षकों से अन्य कोई गैर-शैक्षणिक कार्य नहीं करवाया जा सकता है। नई शिक्षा नीति 2020 में पैराग्राफ 5.12 पर स्पष्ट किया गया है कि शिक्षकों से अन्य कोई गैर-शैक्षणिक कार्य नहीं करवाया जाएगा। किन्तु फिर भी शिक्षा अधिकार 2009 कानून का धड़ल्ले से उल्लंघन हो रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।