शहीद स्मारक हरियाणा का पहला और बेहतरीन स्मारक बनेगा:- गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज।
August 20th, 2020 | Post by :- | 57 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा)
अम्बाला-दिल्ली मार्ग पर 22 एकड़ में 200 करोड़ रुपये की लागत से बहुत भव्य शहीदी स्मारक का काम तेजी से चल रहा है। ऐसा शहीदी स्मारक आस-पास कहीं भी नही है। हरियाणा में ऐसा भव्य शहीदी स्मारक अम्बाला में बनाया जा रहा है। इसमें अम्बाला से शुरू हुई आजादी की लड़ाई से लेकर रंगून में बहादुरशाह जफर की शहादत की जानकारी दर्शाई और दिखाई जाएगी। यह जानकारी हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने वीरवार को शहीदी स्मारक के निर्माण कार्य का निरीक्षण करते हुए दी। शहीदी स्मारक में देश के लिए शहादत देने वाले लोगों का इतिहास म्यूजियम और ओपन थिएटर में भी दिखाया और दर्शाया जाएगा, ताकि लोगों को राष्टभक्तों की शहादत बारे जानकारी मिलती रहें।
गृह मंत्री ने बताया कि आजादी की लड़ाई की पहली चिंगारी अम्बाला छावनी से फूटी थी। उसी के चलते शहीदी स्मारक का निर्माण कार्य किया जा रहा है। यहां पर ओपन एयर थियेटर में 2000 लोगों के बैठने की व्यवस्था रहेगी। लाईट एंड साउंड के माध्यम से 1857 की आजादी की लड़ाई का सामूहिक विवरण एवं अम्बाला से इसकी शुरूआत हुई थी, उसके समूचे विवरण के साथ-साथ रंगून तक का सारे इतिहास का चित्रण यहां पर प्रदर्शित किया जायेगा। झांसी की रानी, तांत्या टोपे आजादी की लड़ाई में हरियाणा के साथ-साथ देश के लोगों की क्या भूमिका रही है, उसका भी विवरण बताया और दिखाया जायेगा। लाईट एंड साउंड एवं म्यूजियम दोनों के माध्यम से इस सम्पूर्ण विवरण को दिखाया जायेगा। उन्होंने यह भी बताया कि तेजी से चल रहे कार्यो में जहां कमी है उसे भी अधिकारी प्राथमिकता के आधार पर पूरा करें।
उन्होंने यह भी बताया कि यहां पर 13 मंजिला मैमोरियल टावर कमल के फूल के रूप में लगाया जायेगा ताकि यहां से गुजरने वाले लोग इसकी सुंदरता को देख सकें। उन्होंने कहा कि नेशनल हाइवे के नजदीक इस शहीदी स्मारक का निर्माण होने से यहां की भव्यता और बढ़ेगी तथा यहां से वाहनो के माध्यम से गुजरने वाले लोग निस्संदेह इसकी सुंदरता को देखने के लिये आयेंगे। आजादी की लड़ाई में रोटी और कमल के फूल का बहुत बड़ा महत्व था। उन्होंने बताया कि दिसम्बर 2021 तक अधिकारियों ने इस प्रोजैक्ट को पूरा करने की बात कही है लेकिन उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं मार्च-अप्रैल 2021 तक इस प्रोजैक्ट को पूरा करें, ताकि खेलो इंडिया में आने वाले दर्शक व अन्य इसकी सुंदरता को देख सकें और अपने आपको काफी गौरवान्वित महसूस करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।