लखीमपुर खीरी बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र का जिलाधिकारी ने किया भ्रमण
August 20th, 2020 | Post by :- | 120 Views

लखीमपुर खीरी(पवन दीक्षित)

◆ *डीएम ने किया तहसील सदर के बाढ़ ग्रस्त इलाकों का दौरा दिए निर्देश*

◆ *बाढ़ चौकी पर डीएम ने वितरित किए खाद्यान्न किट*

◆ *जलस्तर कम होने पर फसलों की क्षति का कराया जाएगा सर्वे*

◆*बाढ़ प्रभावितो की हर संभव मदद हेतु प्रशासन पूरी तरह कटिबद्ध*

बुधवार को जिला अधिकारी शैलेंद्र कुमार सिंह ने तहसील सदर के बाढ़ ग्रस्त इलाकों बाढ़ ग्रस्त क्षेत्र इच्छारामपुरवा, नरहर, मिलपुरवा, गूम, पिपरागूम, लंगडी पुरवा का दौरा कर सूरत ए हाल जाना।

डीएम ने बाढ़ ग्रस्त इलाकों का जायजा लेते हुए ग्रामीणों से एक-एक कर बात कर उनकी समस्याएं जानी और उन्हें हर संभव मदद हेतु आश्वस्त किया। डीएम ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जी बाढ़ एवं कटान को लेकर काफी संजीदा है। सरकार बाढ़ पीड़ितों की हर संभव मदद करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।

डीएम ने कहा कि बढ़े हुए जल स्तर पर बराबर निगाह रखी जा रही है और जलस्तर में कमी आते ही फसल की क्षति का सर्वे कराया जाएगा और शासन से प्राप्त निर्देशों के क्रम में उनकी मदद की जाएगी। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों के आवागमन हेतु जो नावे लगाई गई, उनमें क्षमता से अधिक व्यक्तियों का परिवहन कदापि ना किया जाए। यह प्रत्येक दशा में सुनिश्चित किया जाए। ग्रामीणों के परिवहन हेतु जो नावे लगाई गई हैं, उनका भुगतान राजस्व विभाग द्वारा किया जाएगा।
उन्होंने मौके पर मौजूद अधिकारियों से यहां की स्थितियों पर बराबर निगाह रखने हेतु निर्देशित किया। उन्होंने कहा की शासन की मंशा के अनुरूप बाढ़ ग्रस्त इलाकों में किसी भी दशा में कोई भी प्रभावित व्यक्ति प्रशासनिक मदद से वंचित नहीं रहना चाहिए।

इससे पूर्व डीएम ने फूलबेहड़ में बनाई गई बाढ़ चौकी पर बाढ़ पीड़ितों को खाद्यान्न किट के साथ-साथ क्लोरीन की गोलियां वितरित की। बताते चलें कि वितरित इस खाद्यान्न किट में 10 किलो आटा, 10 किलो चावल, 02 किलो अरहर दाल, 02 किलो भुना चना, 01 लीटर तेल, मिर्चा धनिया एवं हल्दी के पैकेट, एक किलो नमक का पैकेट, 05 किलो लाइ, 10 किलो आलू, पांच पारले जी के बिस्कुट पैकेट, दो पैकेट मोमबत्ती तथा एक पैकेट माचिस शामिल है।

इस मौके पर उपजिलाधिकारी सदर डॉ अरुण कुमार सिंह, तहसीलदार सदर उमाशंकर नायब तहसीलदार ओपी मिश्रा सहित राजस्व विभाग के कर्मचारी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।