मंत्री सुखराम चौधरी के बाद अब भाजपा विधायक परमजीत सिंह पम्मी भी कोरोना संक्रमित
August 19th, 2020 | Post by :- | 42 Views
  विधायक के सम्पर्क में आए सभी व्यक्ति घर पर ही हो क्वारेन्टीन – उपायुक्त सोलन
बददी ! प्रदेश में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार बढ़ोतरी ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। प्रदेश में भाजपा सरकार में नव नियुक्त मंत्री सुखराम चौधरी के बाद अब भाजपा विधायक भी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए है। कोरोना की चपेट में आने वाले सोलन जिला के दून विधानसभा क्षेत्र के विधायक परमजीत सिंह पम्मी हैं। कुछ दिन से उन्हें सांस लेने में दिक्कत पेश आ रही थी, इसके चलते उनका टेस्ट लिया गया और मंगलवार देर शाम इनकी कोरोना संक्रमण की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। अब उन्हें उपचार के लिए आईजीएमसी शिमला भेज दिया है, जबकि विधायक के पारिवारिक सदस्यों को होम क्वारंटीन कर दिया गया है। मामले की पुष्टि अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आर डी धीमान ने की है।  मंगलवार को जहां मुख्यमंत्री के सुरक्षा काफ़िले के 14 लोग पाजिटिव आए हैं तो देर शाम भाजपा विधायक के संक्रमित होने की खबर चिंताजनक है। इससे पहले भी उनके सुरक्षा दस्ते से पांच लोग पाजिटिव आए हैं। अब तक मुख्यमंत्री के सुरक्षा काफ़िले के 19 लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं।

इससे पहले मुख्यमंत्री और दो अन्य मंत्री भी क्वारंटाइन हो चुके हैं। कुछ दिन पहले सोलन जिले के नालागढ़ क्षेत्र से आईएएस बनी मुस्कान जिंदल के साथ परमजीत सिंह पम्मी मुख्यमंत्री के साथ भेंट कर चुके हैं। हालांकि इस भेंट के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग अपनाई गई थी। परमजीत सिंह पम्मी इससे दो दिन पहले ही पंजाब से वापिस लौटे हैं। बता दें कि भाजपा खेमे में कोरोन संक्रमण के बढ़ते मामलों को देख विपक्ष भी हमलावर रूख अपनाए हुए हैं। विपक्ष पहले ही आरोप लगा चुका है कि प्रदेश कोरोना काल में भी सरकार रैलियों व स्वागत कार्यक्रमों का न केवल आयोजन कर रहा है बल्कि ऐसे कार्यक्रमों में सोशल डिस्टेसिंग व कोरोना के लिए बनाए गए अन्य नियमों की भी जमकर धज्जियाँ उड़ाई जा रही है। वहीं अभी तक मंत्री सुखराम चौधरी के स्वास्थ्य में कोई खास सुधार नहीं आया है। उनकी स्थिति पहले जैसी ही बनी हुई है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।