अटल जी ने जो दीप जलाया, उसे न बुझने देंगे हम : प्रभात झा
August 16th, 2020 | Post by :- | 92 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा) अटल जी ने जो दीप जलाया, उसे न बुझने देंगे हम,उस बाती की पुंज प्रकाश से, जगमग जग कर देंगे हम |” ये पंक्तियाँ भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं चंडीगढ़ के प्रभारी प्रभात झा ने आज भारतीय जनता पार्टी चंडीगढ़ द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री श्रधेय स्व श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की द्वितीय पुण्यतिथि पर आयोजित वर्चुअल प्रार्थना सभा के दौरान कही | इस वर्चुअल प्रार्थना सभा में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अरुण सूद, संगठन महामंत्री दिनेश कुमार, सांसद किरण खेर, राष्ट्रीय परिषद सदस्य संजय टंडन, महामंत्री रामबीर भट्टी, पूर्व सांसद सत्यपाल जैन सहित पार्टी के जिला अध्यक्षों, मंडल अध्यक्षों, मोर्चा अध्यक्षों और पार्टी के हजारों कार्यकर्ताओं ने इस वर्चुअल प्रार्थना सभा में भाग लिया | इस अवसर पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को उनके संगठन के प्रति किये गए सरहानीय कार्यों के प्रति सम्मानित करने हेतु आज भारतीय जनता पार्टी चंडीगढ़ द्वारा अटल रत्न पुरस्कार की भी शुरुआत की गयी | अटल जी की पुण्य तिथि पर एक वरिष्ठ नेता को इस पुरस्कार से सम्मानित किया जायेगा ये तय किया गया | इस संज्ञान के अंतर्गत आज पार्टी ने पार्टी के वरिष्ठ नेता देसराज टंडन को अटल रत्न से पुरस्कृत कर इसकी शुरुआत की | देसराज टंडन वर्ष 1967 से लगातार पार्टी की सेवा में लगे हुए हैं |
प्रार्थना सभी में वर्चुअल सभा के माध्यम से जुड़े सभी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रभात झा ने कहा कि आज देश के जन जन के मन में अपनी ओज और तेजपूर्ण वाणी से एक अमिट छाप छोड़ने वाले भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री श्रधेय अटल जी सिद्धांत,विचार एवं व्यवहार, सरल आचरण, जमीन से जुड़े महान नेता थे | उन्होंने विपक्ष में रहते हुए भी देश के हर दल के राजनेताओं और कार्यकर्ताओं के मन में अपना विशिष्ट स्थान बनाया था | अटल जी का जन्म ग्वालियर में हुआ और उनकी कर्मस्थली ग्वालियर भी रही इसके चलते उनका अटल जी के साथ काफी स्नेह और लगाव था | ग्वालियर की गलियों को अटल जी ने साइकिल से नापा था | अटल जी मूल में इतने बड़े नेता होते हुए भी पार्टी के भीतर एक कार्यकर्ता के रूप में ही थे | उनका मानना था कि हमारी पार्टी कार्यकर्ताओं की पार्टी है | जो नेता है वह भी कार्यकर्ता है | संगठन में विशेष जिम्मेदारी दिए जाने के कारण वह नेता के रूप में जाने जाते हैं, लेकिन उनका आधार है , उनका कार्यकर्ता होना | जो आज विधायक, है, वह कल शायद विधायक नहीं रहें | सांसद भी सदैव नहीं रहेंगे | कुछ लोगों को पार्टी बदल देती है, कुछ को लोग बदल देते हैं , लेकिन कार्यकर्ता का पद ऐसा है जो बदला नहीं जा सकता | कार्यकर्ता होने का हमारा अधिकार छीना नहीं जा सकता | हमारा यह अधिकार अर्जित किया हुआ अधिकार है, निष्ठा और परिश्रम से हम उसे प्राप्त कर सकते हैं | पार्टी के संगठन को सुचारू रूप से चलाने के लिए कार्य का विभाजन होता है | अलग अलग दायित्व होते हैं हमारे यहाँ लोकतंत्र विद्यमान है | कोई भी व्यक्ति विशेष लगातार किसी एक जिम्मेदारी पर नहीं रहता | हमारे यहाँ संगठन के विस्तार के लिए नए लोगों को आगे लाया जाता है | समाज के सभी वर्गों से और देश के सभी क्षेत्रों से सभी पार्टी में अधिकाधिक शामिल हो, ये हमारा प्रयास होता है | यह सभी पार्टी के अनुशासन और मर्यादा के अंतर्गत होनी चाहिए | यही बात आज हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहा करते हैं | उनका भी कहना है कि हम चाहे जितने भी बड़े नेता हो पर हमें मूल में कार्यकर्ता भाव से सदैव जुड़े रहना चाहिए |
प्रभात झा ने उनके राजनैतिक घटनाक्रमों की बातों को स्मरण करते हुए कहा कि अटल जी राष्ट्र को प्रथम, दल को दिवितीय और स्वयं को अंतिम स्थान देते थे | वे कहा करते थे हमारी पार्टी के वरिष्ठ नेता राष्ट्र हित के दार्शनिक और चिन्तन विचारधारा के प्रखर हैं | डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी या फिर हम बात करें पंडित दीन दयाल उपाध्याय जी की उनके द्वारा दर्शाए गए आदर्शों, सिद्धांतों पर चल कर ही हम एक आदर्श कोटि के कार्यकर्ता बन सकते हैं | अटल जी ने कभी भी अपने आदर्श और सिधान्तों की राह को नहीं छोड़ा और उसी पर चलते हुए उन्होंने हम सभी के भीतर एक अमिट छाप छोड़ी |
उन्होंने कहा कि मात्र 2 सीट से आज हम पूर्ण बहुमत की सरकार वाले दल कैसे बने इसके लिए हम सभी को अपने राष्ट्रीय अध्यक्षों के संगठनात्मक भाषणों को सुनना चाहिए | उनकी किताबों को पढना चाहिए ताकि हम भी अपने जीवन में उनका अनुसरण करके अपने दल को और आगे तक लेकर जाने के लिए अग्रसर हो | एक ज़माना था जब कांग्रेस पार्टी के लोग संसद में हम पर हँसते थे तब अटल जी ने भरी संसद में कहा था कि आज आप हम पर हंस रहे हो कल को सारी दुनिया आप पर हँसेगी | परिणाम आज हम सब के सामने है | व्यक्ति यदि अपने आदर्शों और सिद्धांतो को न छोड़े और धीरे धीरे पार्टी की विचारधारा को जनता तक लेकर जाए तो सफलता आपके कदम चूमती है | आज हमारा सौभाग्य है कि हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उच्च आदर्शों और सिद्धांत के आधार पर देश में ही नहीं विश्व में विख्यात हैं | उन्होंने सदैव पार्टी के महान नेताओं की दूरगामी और राष्ट्रहित के प्रति निष्ठा की परम्परा को आगे बढ़ाया है | आज परिणाम साफ़ हैं देश में राम मंदिर भी बन रहा है, जम्मू कश्मीर से देश को विभाजित करने वाली धारा 370 को भी हटा दिया गया | ये सब जो हुआ वो राष्ट्र हित के लिए हुआ और इसी सोच को तो हमारे तत्कालीन नेताओं ने दूरगामी दृष्टि से देखा था |
उन्होंने कहा कि अटल जी एक चरित्र थे, जीवनशैली थे, प्रेरणास्रोत थे | जो राष्ट्रहित के लिए उन्होंने अपने सपने संजोये थे आज उन्ही सपनो को धरातल पर उतारने का जो काम किया वो देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा ने किया उसको देख कर वो आज खुश होंगे | उन्होंने कहा कि आज अटल जी हमारे बीच नहीं हैं पर उनकी कवितायें, उनके विचार, उनके आदर्श, उनके सिद्धांत हम सब के बीच में हैं | प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसे महान नेता की स्मृति में समाधि स्थल अटल स्थल का निर्माण कर हम सभी को गौरवमयी किया है अत हम जब भी दिल्ली जाएँ तो अपने श्रधासुमन जरूर अर्पित करके आयें |
इस अवसर पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अरुण सूद ने कहा कि यदि हम सभी कार्यकर्ता श्रधेय स्व श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के जीवन का मात्र एक प्रतिशत विचार भी अपने मन में धार ले तो ये हमारे लिए अमूल्य वरदान के समान होगा | हम सभी को सदी के ऐसे महान नेताओं के जीवन से कुछ न कुछ अपने जीवन में धारण करना चाहिए ताकि हम भी उनकी भांति अपने जीवन में उसी प्रकार से कार्य कर सकें और एक उच्च राष्ट्र का निर्माण करने में सहयोग कर सकें | ऐसे महान लोगों के जीवन को जानने के लिए पार्टी ने प्रदेश कार्यालय में लायब्रेरी का निर्माण भी किया है | उन्होंने सभी कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि वे वहां जाएँ और महान पुरुषों के जीवन से जुडी बातों को वहां पढ़े और अपने जीवन में धारण करें |
इस अवसर पर पार्टी के संगठन महामंत्री दिनेश कुमार ने भी अटल जी के जीवन से जुडी घटनाओं को स्मरण करके उन्हें श्रधान्जली अर्पित की और उनके द्वारा दर्शाए मार्ग पर चलने की बात कही |
स्थानीय सांसद किरण खेर ने भी पूर्व प्रधानमंत्री श्रधेय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी की बातों को याद करते हुए कहा कि उनका जीवन आदर्शों से भरा था | उन्हें पार्टी ने जो भी जिम्मेदारी दी उन्होंने पूरी शिद्दत के साथ निभाई | सभी राजनैतिक दलों के नेताओं और कार्यकर्ताओं के बीच अपने विचारों से उनके दिलों में राज करने वाले ऐसे नेता को शत शत नमन करते हैं |

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।