करसोग में बरसात में हुए 7.94 करोड़ के नुकसान की प्रशासन ने सरकार को सौंपी रिपोर्ट।
September 11th, 2019 | Post by :- | 98 Views

मंडी,करसोग (मोहन शर्मा):- दो बार हुई लगातार बरसात से करसोग में 7.94 करोड़ का नुकसान हुआ है। इसमें पीडब्ल्यूडी विभाग को सबसे अधिक 6.16 करोड़ की क्षति झेलनी पड़ी है। भारी बारिश से डंगे गिरने, भूस्खलन व गड्ढे पड़ने से सड़कों को काफी क्षति हुई है। हालांकि एसडीएम को तीन ही विभागों पीडब्ल्यूडी, आईपीएच व राजस्व विभाग से ही नुकसान की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। जिसे अब सरकार को भेज दिया गया है। इस रिपोर्ट के आईपीएच विभाग को भी 1.49 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा है। विभाग की कई पेयजल योजनाएं और सिचाई योजनाएं भुस्खलन और खड्डों में पानी के तेज बहाव के भेंट चढ़ गई। जिन्हें प्राथमिकता के आधार पर टेंपरेरी तौर पर दरुस्त भी किया गया। ताकि लोगों को किसी भी तरह की परेशानी न उठानी पड़े। इसी तरह राजस्व विभाग ने भी 29.75 लाख नुकसान की रिपोर्ट एसडीएम को सौंपी है। जिसमें लोगों के रिहायशी मकानों को भारी नुकसान हुआ है। इसके अलावा कई क्षेत्रों में पशुशाला ढ़हने से पशुओं की भी मृत्यु हुई है। मानसून सीजन में बिजली बोर्ड ने किसी भी तरह के नुकसान होने की रिपोर्ट एसडीएम को नहीं सौपी है।

करसोग में सूखे जैसे हालात, सिर्फ दो बार हुई लगातार बारिश ने मचाई तबाही:
करसोग में सिर्फ दो बार ही लगातार भारी बारिश ने सबसे अधिक तबाही मचाई है। इसके अलावा सामान्य तौर पर करसोग में इस बार अच्छी बारिश नहीं हुई है। अभी भी दो सप्ताह से अधिक समय से करसोग में बारिशें नहीं हुई है। जिससे खेतों में ही फसलें सूखने लगी है। शिमला मिर्च सहित, बीन, दालों व मक्की की फसल को लगातार सूखे से अब तक काफी नुकसान पहुंचा है।

सरकार को भेज दी है रिपोर्ट:एसडीएम
एसडीएम करसोग सुरेंद्र कुमार ठाकुर का कहना है कि बरसात के सीजन में अब तक पूरे उपमंडल को 7.94 करोड़ का नुकसान हुआ है। उनका कहना है कि कई लोगों के मकानों को भारी नुकसान भी पहुंचा है। इसके अतिरिक्त भारी बारिश के कारण कई पशुओं की भी मृत्यु हो गई। सबसे अधिक क्षति पीडब्ल्यूडी विभाग को हुई है। इसकी रिपोर्ट सरकार को भेज दी गई है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।