एसडीएम सुभाष चन्द्र सिहाग ने एसडी कॉलेज अम्बाला छावनी में 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर फेराया तिरंगा।
August 15th, 2020 | Post by :- | 71 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा)
एसडीएम सुभाष चंद्र सिहाग ने आज एसडी कालेज अम्बाला छावनी में 74वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर आयोजित उपमंडल स्तरीय कार्यक्रम में तिरंगा फहराया और परेड की सलामी ली। उन्होंने इस मौके पर कोरोना महामारी के मद्देनजर बेहतरीन कार्य करने वाले कोरोना योद्धाओं को सम्मानित करने का काम किया।
इस मौके पर पुलिस की टुकड़ी ने तिरंगे को सलामी दी। एसडीएम ने अपने संदेश में कहा कि देश को हजारो जाने अनजाने शहीदों की कुर्बानियों और लंबे संघर्ष के बाद देश को आजादी मिली है। उन्होंने कहा कि देश की आजादी का जश्न मनाते समय हमें शहीदों की कुर्बानियों को नहीं भूलना चाहिए और प्रत्येक भारतवासी की देश व समाज के प्रति अपने नैतिक दायित्व का ईमानदारी से निर्वहन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आजादी के 73 साल के सफर में देश ने अभूतपूर्व उन्नति की है, लेकिन अभी भी स्वतंत्रता सैनानियों और महान नेताओं की सोच का भारत बनाने के लिए सभी को मिलकर और अधिक प्रयास करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि राजनैतिक आजादी के साथ-साथ हर नागरिक को आर्थिक आजादी से जोडक़र ही स्वतंत्रता सैनानियों के स्वप्न को पूरा किया जा सकता है।
देश की आजादी की पहली लड़ाई यानि 1857 का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम अम्बाला छावनी की पावन भूमि से आरम्भ हुआ था। इस महत्व को देखते हुए स्वास्थ्य, खेल एवं युवा कार्यक्रम मंत्री अनिल विज के प्रयासों से अम्बाला छावनी 200 करोड़ रूपये की लागत से 22 एकड़ क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के शहीद स्मारक का निर्माण किया जा रहा है वहीं इस निर्माण कार्य के साथ यहां पर 50 करोड़ रूपये की लागत से विज्ञान केन्द्र का निर्माण कार्य भी तेजी से किया जा रहा है।
अम्बाला छावनी विधानसभा क्षेत्र ने भी स्वास्थ्य, खेल एवं युवा कार्यक्रम मंत्री अनिल विज के सफल नेतृत्व में अभूतपूर्व विकास किया है।
इस मौके पर मुख्यअतिथि की धर्मपत्नि संतोष सिहाग, डीएसपी राम कुमार, प्रिंसीपल एसडी कालेज डा0 राजेन्द्र सिंह, तहसीलदार कृष्ण कुमार, नायब तहसीलदार साहा सुरेश कुमार, बीईओ मीना राठी, बीईओ रेणू अग्रवाल सहित अन्य गणमान्य लोग मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।