2613 SMC शिक्षकों पर मंडराया संकट
August 15th, 2020 | Post by :- | 2573 Views

हाईकोर्ट ने 2613 एसएमसी शिक्षकों की नियुक्तियां रद्द कर दी हैं। भर्ती के खिलाफ दायर याचिका को स्वीकार करते हुए न्यायाधीश सुरेश्वर ठाकुर व न्यायाधीश सीबी बारोवालिया की खंडपीठ ने शुक्रवार को इस मामले पर फैसला सुनाया।

लोकहित एक्सप्रेस (हिमाचल):- हिमाचल प्रदेश प्रशिक्षित वेरोजगार अध्यापक संघ के लीगल एडवाइजर श्री अवनीश भारद्वाज एवं प्रैस सचिव श्री प्रकाश चंद ने जारी प्रैस नोट में कहा कि संघ की आनलाइन मीटिंग हुई /

वैठक में संघ के प्रदेशाध्यक्ष श्री कुलदीप सिंह मनकोटिया,वरिष्ठ उपाध्यक्ष विजय सिंह , महासचिव मनीष डोगरा, सचिव लेख राम, उपाध्यक्ष अजय रत्न व संजय राणा, मुख्य संगठन सचिव पुरषोत्तम दत्त, वित्त सचिव संजीव कुमार,संगठन सचिव यतेश शर्मा , हरिन्द्र पाल व सपना, आडिटर सुधीर शर्मा एवं रणयोध सिंह, जिलाध्यक्ष कांगड़ा निर्मल सिंह, जिलाध्यक्षा ऊना रजनी वाला, जिलाध्यक्ष विलासपुर किशोरी लाल एवं जिला उपाध्यक्ष मंडी सुरिंदर सिंह आदि ने अपने सांझा व्यान में कहा कि अधिवक्ता श्री अवनीश भारद्वाज जी ने एस. एम. सी केस की पैरवी वहुत ही अच्छे ढंग से की जिससे फैसला वेरोजगारों के हक में आ गया है/ इसके लिए वेरोजगार संघ उनका तहदिल से धन्यवाद करता है/

अधिवक्ता श्री अवनीश भारद्वाज ने जानकारी दी कि एस. एम. सी केस जीतने के वाद वेरोजगारों को न्याय मिलना तय है/ वेरोजगार पिछले वीस साल से अपने संवैधानिक अधिकारों से वंचित थे/अव शिक्षा विभाग में सभी पात्र वेरोजगारों को रोजगार के समान अवसर मिलना शुरू हो जाऐंगे/ वेरोजगार संघ ने सरकार से आग्रह किया है सभी वाधाओं को दूर करके नियमित शिक्षकों की भर्ती शीघ्र अतिशीघ्र की जाऐ/ज्ञात रहे सरकारी स्कूलों में अधिकांश शिक्षकों के पद खाली पड़े हैं जिससे विद्यार्थियों की शिक्षा पर विपरीत असर पड़ा रहा है/

सरकार ने 1724 टी. जी. टी शिक्षक सरकारी स्कूलों को लॉकडाऊन के दौरान उपलब्ध करवाने का वायदा किया था जो अभी पूरा नहीं हुआ है/ सरकार को 3636 शिक्षकों की चल रही भर्ती प्रक्रिया में तेजी लाने के साथ साथ 793 पी. जी. टी शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया भी शूरू कर देनी चाहिए/

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।