कस्बा के स्कूल में बारहवीं कक्षा छात्र के बैग से मिली एयरगन, मौके पर पहुंची पुलिस
September 11th, 2019 | Post by :- | 225 Views

अंबाला , बराड़ा ( गुरप्रीत सिंह मुल्तानी )     कस्बा का राजकीय मॉड्रन संस्कृति सीनियर स्केंडरी स्कूल में लगता है स्कूल स्टाफ का बच्चों पर दबाव नही है। चर्चा में रहे इस स्कूल में जहां पहले छात्र व छात्राएं बीयर का सेवन करते मिले थे। जिसके बाद उनका स्कूल से नाम काट दिया गया था। अब इसी स्कूल के प्लस टू के छात्रों से एयरगन मिली है।  जिससे पक्षियों को उडाया जाता है। यह एयरगन स्कूली बच्चे के बैग से मिली।

सूचना मिलते ही बराड़ा पुलिस ने मौके पर पहुंच स्कूली दोनों बच्चों को हिरास्त में ले लिया। दोनों बच्चे नाबालिग है।  पुलिस ने दोनों को चेतावनी दी ओर 150 का मुकदमा दर्ज कर लिया।

जानकारी के अनुसार राजकीय मॉड्रन संस्कृति सीनियर स्केडरी स्कूल बराड़ा में कक्षा बारहवीं कक्षा के दो छात्र जिसमें एक बराड़ा निवासी तो दूसरा राजौखड़ी निवासी है। इनके पास से एक एयरगन मिली जो खिलौना टाईप गन है। हालांकि यह देशी कट्टा जैसी लगती है। लेकिन इससे जानी नुकसान नही होता। अगर इसका छर्रा किसी की आंख पर लग जाए तो यह नुकसान दायक साबित हो सकती है। इसे देख कर कुछ छात्र डर भी गए। स्कूली बच्चों को लगा कि यह देसी  कट्टा न हो। जबकि यह खिलौने जैसी गन है। इस खिलौना टाईप गन से छात्र क्या कर रहे थे। कोई जानकारी नही मिली। पता चला है कि इस एयर गन को एक बच्चे के परिजन लाए थे।  जिसे  वह स्कूल में ले आया। स्कूल में आकर उसने अपने साथी को दिखाई तो उसने इसे अपने बैग में डाल लिया। जिसे किसी बच्चे ने देख लिया ओर स्कूल स्टाफ को बता दिया। जिसके बाद सूचना पुलिस को दी गई। बराड़ा पुलिस ने  दोनों छात्रों के खिलाफ 150 का पर्चा देकर थाना प्रभारी बराड़ा के समक्ष पेश किया जहा से उनको जमानत पद छोड़ दिया गया।

29 अगस्त को स्कूल में बर्थ-डे पर बीयर का सेवन किया था, काटे गए थे नाम:- स्कूल से पहले भी जन्मदिन पर खुशी मनाते हुए बच्चों ने बीयर का सेवन किया था। जिसमें दो छात्राएं व चार छात्र थे। जिनको उल्टी आने के बाद स्कूल स्टाफ व प्रिंसिपल राजबीर सिंह को पता चल गया था। प्रिंसिपल राजबीर सिंह ने कड़ा संज्ञान लेते हुए दो छात्रााअें व चार  छात्राओं का स्कूली से नाम काट दिया था। जबकि अभिभावको ने माफी मांगते हुए भविष्य में ऐसा न करने का विश्वास भी दिलवाया था। इस मामले में लोगों ने प्रिंसिपल राजबीर की तारीफ की थी।
जांच अधिकारी हवलदार विकास :-

यह खिलौना टाईप गन होती है जो पक्षियों को (कबूतरों) के उडाने के काम आती है। स्कूल प्रबधंन ने बच्चों के  अभिभावकों को बुलाकर समझाया है। बाकी इस मामले में आरमर (असला विशेषज्ञ) से बात कर उनकी रिपोर्ट के आधार पर कार्रवाई होगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।