धूमधाम से मनाया गया जन्माष्टमी पर्व, कृष्ण जन्म की बांटी बधाइयाँ
August 12th, 2020 | Post by :- | 29 Views

जयपुर/जयसिंहपूरा खोर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । ब्रज सहित समूचे देश और विदेश में कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व धूमधाम मनाया गया वहीं नन्दगांव में समेत देश के कई हिस्सों में एक दिन पहले मंगलवार को इसका आयोजन किया गया। कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर मंदिरों में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर प्रतिबंध के बीच आज मथुरा में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। कोरोना के लगातार बढ़ रहे संक्रमण ने कृष्ण जन्माष्टमी की रौनक फीकी कर दी है। जन्माष्टमी का मौका है लेकिन कन्हैया की नगरी सुनी है जहां त्योहार के मौके पर कभी पैर रखने की जगह तक नहीं होती थी वहां कोरोना की वजह से लोगों की कम भीड़ देखने को मिल रही है। श्रीकृष्ण जन्मस्थान परिसर में भव्य तैयारियां, दिव्य रूप में सजाए गए मंदिर श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव को मनाने के लिए श्रीकृष्ण जन्मस्थान परिसर में बड़ी तैयारियां की गई हैं। परिसर के सभी मंदिरों (भगवान केशवदेव मंदिर, श्रीगर्भगृह, श्रीयोगमाया मंदिर एवं भागवत भवन) को बड़े ही भव्य एवं दिव्य रूप में सजाया गया है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर सरकार द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों के अनुपालन में श्रद्धालु इस बार दूरदर्शन व अन्य चैनलों द्वारा टीवी पर सीधे प्रसारण के जरिये श्रीकृष्ण जन्मोत्सव में शामिल हो सकेंगे।
*पहली बार ऐसा हो रहा है:
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान कृष्ण का बचपन नंदगांव में व्यतीत हुआ था। ब्रज के मंदिरों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व धूमधाम से मनाए जाने के बावजूद कोरोना वायरस संकट के चलते इसे इस बार सार्वजनिक रूप नहीं दिया गया है न ही इस अवसर पर श्रीकृष्ण जन्मस्थान आदि मंदिरों में भक्तों को विशेष प्रसाद का वितरण किया जाएगा। नन्दगांव में सैकड़ों वर्षों से चली आ रही ‘खुशी के लड्डू’ बांटे जाने की परम्परा भी नहीं निभाई जाएगी।
*जन्माष्टमी को लेकर क्या है प्रथा:
भाद्रपद मास की अष्टमी तिथि को कृष्ण जन्मोपलक्ष्य में जन्माष्टमी पर्व मनाया जाता है। विद्वानों के अनुसार वैष्णवों द्वारा परम्परानुसार भाद्रपद मास की अष्टमी तिथि में सूर्यादय होने के अनुसार ही जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाता है, लेकिन नन्दगांव में इसके उलट श्रावण मास की पूर्णमासी के दिन से आठवें दिन ही जन्माष्टमी मनाने की प्रथा चली आ रही है। मथुरा के ठाकुर द्वारिकाधीश मंदिर, वृन्दावन के ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर में भी कृष्ण जन्माष्टमी पर्व आज ही मनाया जाएगा। इस प्रकार से जयसिंह पूरा खोर की सैनी कॉलोनी रामनगर कॉलोनी सहित अन्य कॉलोनियों में भी जन्माष्टमी का पर्व धूमधाम से मनाया गया। कॉलोनी की महिलाओं पुरुषों व बच्चों ने भगवान कृष्ण की झांकी सजाने में बढचढ कर हिस्सा लिया व महिलाओं व लड़कियों ने भजनों व गानों पर जमकर ठुमके लगाए। माखनचोर को भजनों से रिझाया गया माखन व टॉफियां भरकर मटकी भी फोड़ी गई। बच्चों ने माखन व टॉफियां लूटी। 12 बजे सजी हुई झांकी की आरती कर चरणामृत का प्रसाद खिलोने व अन्य सामग्री बांटी गई ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।