अपने ही घर में पराये होकर रह गये हैं बसंती बाग कालोनी के बशिंदे
August 12th, 2020 | Post by :- | 262 Views

पार्षद के सामने रोया रोना , न सडक़ें, न सीवरेज, न पानी

नगर परिषद चुनावों का करेंगे वहिष्कार

बद्दी ! नगर परिषद के तहत पड़ती बसंती बाग कालोनी के बशिंदों ने नप पार्षद सतवीर कौर के सामने समस्याओं को पिटारा खोला व नगर परिषद बद्दी के चुनावों के वहिष्कार की बात कही। स्थानीय लोगों ने हसंराज कुंडलस, संजीव तायल, संजय यादव, प्रदीप भुटानी, निशा तायल, पी.के. गुप्ता, एम.एस. रिजवी, ने पार्षद सतवीर कौर को बताया कि बसंती बाग कालोनी में न तो सडक़ें अच्छी है व न ही सीवरेज की उचित व्यवस्था है। थोड़ी सी बरसात होने पर पूरा नगर परिषद पानी-पानी हो जाता है व लोगों का घरों से निकलना दुष्वार हो जाता है। सीवरेज हर समय कहीं कहीं से लीक होती रहती है जिसकी बदबू पूरी कालोनी में फैली रहती है। बसंती बाग कालोनी के पार्को को बुरा हाल है व बार-बार शिकायत करने पर भी यहां कोई सुधार नहीं हो पाया है। कालोनी के बीच से निजी कालोनियों का रास्ता दिया जा रहा है जिससे यहां की शांति भंग होकर रह गई है। इसके अलावा स्ट्रीट लाईटें ज्यादातर खराब रहती है व यहां समस्याओं का अंबार लगा हुआ है। आलम यह है कि नप बद्दी में होने के बावजूद उनसे परायों जैसा व्यवहार किया जाता है। जब चुनावों का समय होता है तो यहां लोग वोट मांगने आ जाते हैं व इस बार स्थानीय पार्षद के अलावा किसी को भी बसंती बाग में घुसने नहीं दिया जाएगा। उपरोक्त लोगों का कहना है कि लोगों ने पूरा मन बना लिया है कि अगर उनकी समस्याओं का निपटारा नहंी हुआ तो लोग आगामी नप चुनावों का वहिष्कार करेंगे। पार्षद सतवीर कौर ने कहा कि नप बद्दी में भाजपा का कब्जा होने के चलते यहां विकास कार्यों की रफ्तार गति नहीं पकड़ सकी परन्तु उन्हेांने अपनी तरह से विकास कार्यों को तरजीह देने की पूरी कौशिश की है। मैं केबल चुनावों के नजदीक ही नहीं बल्कि काम की गति धीमी होने के बावजूर पूरे पांच साल लोगों की समस्याएं हल करने के लिए कालोनी में आती रही। उन्होंने कहा कि कालोनी वासियेां की समस्याओं का निपटारा करने का हरसंभव प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि लोगों द्वारा बताई गई समस्याओं को नप अध्यक्ष नरेंद्र दीपा तक भी पहूंचा दिया गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।