ज़हरीली शराब से हुई मौतों के बाद राजनीति का मैदान बना गांव मुच्छल ।
August 11th, 2020 | Post by :- | 193 Views

ज़हरीली शराब से हुई मौतों के बाद राजनीति का मैदान बना गांव मुच्छल ।
मौतों का मुख्य कारण कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार की लापरवाही औऱ पुलिस व एक्साइज विभाग की सीधी जिम्मेदारी :दूलो ।
जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह ।
मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह अपने मंत्रियों और विधायकों को नही मिलते वह लोगों को कहां मिलेंगे ?
उक्त शब्द राजसभा से सांसद और कांग्रेस पार्टी नेता शमशेर सिंह दूलो गांव मुच्छल में मृतकों के परिवारों के साथ शोक व्यक्त करते हुए कहे ।उन्होंने ने कहा कि वह और राजसभा मेंबर प्रताप सिंह बाजवा इन दलित गरीब लोगों की आवाज़ नही उठाते तो इनकी किसी ने सार नही लेनी थी और ना ही कोई मुआवजा देना था। अगर शराब के स्मगलर को समय रहते हाथ डाला जाता तो यह दुखद हादसा नही होता ।नशे इलाके के राजनीतिक नेता और पुलिस की शह पर ही बिकते हैं। पहले चिट्टा बिकता था अब नशीली गोलियां और शराब जगह जगह बिकती है ।हेरोइन की बिक्री अभी भी अवैध रूप से ज़ाहिर है ।
मौतों की जिम्मेदार मौजूदा सरकार है ।अकाली और कांग्रेस सरकार आपस मे मिले हुए हैं।
लोगो मे दुखी होकर अकालियों को हार दिलाई थी ।पर कांग्रेस का भी वही हाल है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हाथ मे गुटका साहिब लेकर कसम खाई थी जबकि वह इसे निभा नही पाए हैं ।साधु सिंह धर्मसोत द्वारा दिये गए बयान कि पार्टी में रहकर सरकार पर इल्जाम लगाने वाले कांग्रेस पार्टी के लिए ग्रहण हैं ।सुनील जाखड़ पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि वह वर्करों को मिलते नही और उनका दफ़्तर भी अक्सर बन्द रहता है।
ज़हरीली शराब के मामले में उन्होंने किसी हाईकोर्ट के जज या सी बी आई से जांच होने पर पीड़ितो को इंसाफ मिल सकता है। छोटे और गरीब लोगो को पकड़ कर मामले दर्ज किए जा रहें है ।जबकि बड़े तस्कर अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर हैं ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।