मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का भावनात्मक सियासी पत्र सभी 200 विधायकों को बताएं वर्तमान सियासी हालत
August 9th, 2020 | Post by :- | 51 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । मुझे यह बताते हुए प्रसन्नता एवं संतोष का अनुभव हो रहा है कि दिसम्बर 2018 में कांग्रेस सरकार के चुने जाने के साथ ही पिछले डेढ़ साल में राज्य सरकार ने प्रदेश के विकास एवं अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने का हर संभव प्रयास किया है। कोरोना के खिलाफ हम सब मिलकर लड़ाई लड़ रहे है। इसके लिए हमने प्रदेश में सभी विधायकों एवं सांसदों के साथ 21 घंटे की वीडियो कॉन्फ्रेंस की। जिसमें आपके विचारों और सुझाव का आदान-प्रदान हुआ। सभी जनप्रतिनिधियों के सुझावों का सम्मान करते हुए हमने उनके आधार पर कई फैसले भी किये। आपके इस सहयोग से ही हम प्रदेश में कोरोना को तेज गति से आगे बढ़ने से रोकने में काफी हद तक सफल हुए है। कोरोना महामारी इतना भयंकर रूप ले चुकी है कि यह किस रूप में जाकर रुकेगी और किस परिवार को इसका कहर झेलना पड़ेगा, इसके बारे में कुछ भी कहना बहुत मुश्किल है। संकट की इस घड़ी में राज्य सरकार आप सभी साथियों के साथ मिलकर कोरोना से निपटने का प्रयास कर रही है।
जनता से चुनकर जो नुमाइंदे आते हैं,चाहे वे किसी भी पार्टी या गुट के क्यों न हो, हम उन सबका सम्मान करते है। उनके क्षेत्र की हर जायज मांग को बिना भेदभाव को पूरा करने का प्रयास करते हैं। प्रदेश में सभी क्षेत्रों का चहुंमुखी विकास ही हमारा लक्ष्य है। मेरी आप सभी से अपील है कि लोकतंत्र को बचाने, हम में जनता का विश्वास बरकरार रखने एवं गलत परम्पराओं से बचने के लिए आपको जनता की आवाज सुननी चाहिये। आप चाहे किसी भी राजनीतिक पार्टी के विधायक हो, आप अपने अन्य साथियों, परिवारजनों और अपने क्षेत्र के मतदाताओं की भावनाओं को समझकर यह सुनिश्चित करने का फैसला करें कि किस प्रकार राजस्थान प्रदेश के हितों के लिए जनता द्वारा चुनी हुई बहुमत प्राप्त सरकार मजबूती के साथ कार्य करती रहे और सरकार को अस्थिर करने के मंसूबे कामयाब नहीं हो सके। मुझे विश्वास है कि प्रदेशवासियों के व्यापक हित में आप सच्चाई के साथ खड़े रहेंगे और राज्य के विकास और समृद्धि के लिए जनता से किये गए वायदों को पूरा करने में अपना सहयोग करेंगे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।