मलेरिया और डेंगू को जड़ से समाप्त करने के लिए बनाई दो नई मिनी हैचरी , नूह हैचरी में गम्बूसिया मछली छोड़कर की शुरुआत
August 9th, 2020 | Post by :- | 30 Views

नूंह मेवात , ( लियाकत अली )  ।   मच्छर और उसके लारवा को पूरी तरह समाप्त कर नूह जिले से मलेरिया व डेंगू का नामोनिशान मिटाने की कोशिशों में स्वास्थ्य विभाग जी-जान से जुटा हुआ है । नूह जिले में हाई रिस्क जॉन में शामिल उजीना पीएचसी तथा नूह सीएचसी प्रांगण में एक – एक लाख रुपये की लागत से दो नई मिनी हैचरी बनाई गई हैं । सीएचसी नूह प्रांगण में बनाई गई नई हैचरी में शुक्रवार को एसएमओ डॉ गोविंद शरण के अलावा स्वास्थ्य विभाग नूह की टीम ने गम्बूसिया मछली छोड़कर उसकी शुरुआत कर दी। यह मछली मच्छर के लारवा को पूरी तरह खा जाती है और अगर मच्छरों लारवा की संख्या नहीं बढ़ती है , तो मलेरिया व डेंगू के केस भी जिले में सामने नहीं आएंगे। हरियाणा में मलेरिया केसों के एतबार से नूह जिला सब को डराता था ।पिछले कई दशक से सबसे ज्यादा केस नूह जिले में सामने आए थे और यहां मलेरिया की वजह से बहुत से लोगों की जान भी जा चुकी है। इस बार अभी तक महज 18 मलेरिया के केस सामने आए हैं। जिनमें दो ज्यादा खतरनाक एवं 16 कम खतरनाक केस बताए जा रहे हैं । जिला मलेरिया अधिकारी एवं डिप्टी सिविल सर्जन डॉ अरविंद कुमार ने बताया कि इन हैचरी के शुरू होने से मच्छर के लारवा के पनपने के चांस कम होंगे। इसके अलावा उन्होंने कहा कि सिविल सर्जन डॉक्टर जेएस पुनिया ने उजीना पीएचसी का दौरा किया था और वहां के स्टाफ को हाई रिस्क जॉन में आने वाले 10 – 12 गांव में जलभराव में काला तेल , टेमीफोस दवाई तथा डेल्टा मैथिन दवाई का स्प्रे करने के अलावा फॉगिंग इत्यादि पर जोर देने की बात कही । स्वास्थ्य विभाग की कोशिश है कि नूह जिले से मलेरिया व डेंगू का किसी तरह नामोनिशान मिटाया जाए । इसलिए जो हाई रिस्क गांव हैं , उन पर स्वास्थ्य विभाग की निगरानी कड़ी हो गई है । इसी दिशा में शुक्रवार को जिले के स्वास्थ्य विभाग को 2 मिनी हैचरी मिल गई हैं । नूह हैचरी की शुरुआत कर दी गई है , जबकि अगले सप्ताह उजीना पीएचसी प्रांगण में बनाई गई हैचरी की शुरुआत भी गम्बूसिया मछली डालकर कर दी जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।