जिला के 38 किसानों अपने कृषि यंत्रों का करवाया भौतिक सत्यापन:- सहायक कृषि अभियंता ओ.पी. महिवाल।
August 8th, 2020 | Post by :- | 57 Views

अम्बाला:(अशोक शर्मा)
सहायक कृषि अभियंता ओम प्रकाश महिवाल ने बताया कि जिन किसानों ने अपने बिल 15 जून 2020 तथा 30 जून 2020 तक विभिन्न कृषि यंत्रो के बिलों को अनुदान लेने के लिए पोर्टल पर अपलोड किए थे, उन सभी किसानों के कृषि यंत्रों का भौतिक सत्यापन का दूसरा चरण भी पूरा हो चुका है। जिसमे 38 किसानो ने अपने कृषि यंत्रों का भौतिक सत्यापन करवाया जिसमें दिनांक 6 अगस्त 2020 को अम्बाला प्रथम और अम्बाला द्वितीय के 27 किसान तथा दिनांक 7 अगस्त 2020 को साहा व बराड़ा के 8 किसान व शाहजदपुर और नारायणगढ़ के 3 किसानों ने कृषि यंत्रों भौतिक सत्यापन करवाया।
उन्होंने कहा कि किसी कारण वश जो किसान अपने कृषि यंत्र का भौतिक सत्यापन नहीं करवा सके है उन किसानों को सूचित किया जाता है 10 अगस्त 2020 को भौतिक सत्यापन के लिए सहायक कृषि अभियंता अम्बाला के कार्यालय में सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक आप द्वारा खरीदे गए कृषि यंत्र का भौतिक सत्यापन स्वयं आकर करवाना सुनिश्चित करें। यह अवसर तीसरी बार दिया जा रहा है बार बार संदेश देने के बाद भी जिन किसान ने अनुदान राशि प्राप्त करने के लिए अपने द्वारा खरीदे गए कृषि यंत्र का भौतिक सत्यापन नहीं करवाया वह किसान अपनी सामस्या को लिखित रूप में कार्यालय में दें ताकि सामस्या का समाधान किया जा सके। यदि आपने निर्धारित तिथि तक अपने द्वारा खरीदे गए कृषि यंत्र का भौतिक सत्यापन नहीं करवाया तो समझा जाएगा कि आपने कृषि यंत्र खरीदा ही नहीं है। भौतिक सत्यापन के दौरान मूल दस्तावेजों सहित स्वंय उपस्थित हों, मूल दस्तावेजों में बिल, ई.वे बिल, फोटो कृषि यंत्र के साथ, टै्रक्टर की वैध आर.सी. जो जिले में रजिस्टर्ड हो, पटवारी रिपोर्ट, बैंक खाता, आधार कार्ड, पैन कार्ड तथा आरक्षित श्रेणी के प्रमाण पत्र की प्रति साथ लाएं। सभी किसान अपने दस्तावेजों की फोटो प्रति भी अवश्य साथ लाएं। उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा के आदेशानुसार कोरोना वाइरस के कुप्रभाव को देखते हुए किसानों को मास्क पहनना सैनिटाइजर का इस्तेमाल भी अनिवार्य होगा तथा सामाजिक दूरी का भी पूरा पूरा ध्यान रखा जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।