जगह-जगह लगे कूड़े के ढेर विभाग की कारगुजारी पर उठा रहे सवाल
August 8th, 2020 | Post by :- | 91 Views

कहा – निगम को कई बार अवगत करवाने पर भी नहीं हुई कोई सुनवाई

कालका (रोहित शर्मा) । शहर में नगर निगम की लापरवाही के कारण शहर में जगह-जगह लगे कूड़े के ढेर विभाग की कारगुजारी पर सवालिया निशान लगा रहे हैं। शहर के अलग-अलग स्थानों पर लगने वाले कूड़े के ढेरों ने जहां शहर की फिजा को बिगाड़ा हुआ है, वहीं बीमारियों को भी खुलेआम न्योता दे रहे हैं। शहर की गलियों में बनी नालियां जाम होने से कई दिनों तक बारिश का पानी रुका रहता है। इससे पैदा होने वाले मच्छरों से लोगों को बीमारी फैलने का भय सता रहा है। शहर में सफाई व्यवस्था चरमराई हुई है,डंपर से कूड़ा बाहर तक फैला रहता है, आवारा कुत्तों सहित अन्य पशु भी इस गंदगी के समीप बैठे रहते हैं। केंद्र सरकार द्वारा दिया गया “स्वच्छ भारत” का ना केवल नारा ही बन कर रह गया है।

हाउसिंग बोर्ड कालोनी वेलफेयर एसोसिएशन के लीगल सेल के चेयरमैन व रेलवे रोड व्यापार मंडल के महासचिव एडवोकेट मुकेश सोढी ने बताया कि हाउसिंग बोर्ड कालोनी में मकान नंम्बर एचआईजी 5 से लेकर एमआईजी 186 तक कहीं पर भी डस्टबिन नहीं रखा हुआ है। जिस कारण लोग सड़क किनारे बने ग्रीन पार्क में ही कूड़ा गिराने को मजबूर हैं। सोढी का कहना है कि उन्होंने नगर निगम को कई बार इस बारे अवगत करवाया है, परंतु कोई भी सुनवाई नहीं होती। कहा कि इस एरिया में कम से कम 2 डस्टबिन रखवाए जाएंताकि लोग उनमें कूड़ा डाल सकें। उन्होंने बताया कि गंदगी के कारण पूरे शहर में मच्छरों की भरमार है इससे मलेरिया व डेंगू जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ गया है। सोढी ने नगर निगम पंचकूला व स्वास्थ्य विभाग कालका से मांग की है कि जल्द ही शहर की हर गली-मोहल्लों में फॉगिंग करवाई जाए ताकि लोगों को बीमार होने से बचाया जा सके।

क्या कहना है अधिकारियों का

जब इस बारे नगर निगम कालका के जे.ई. सुभाष से बात की गई तो उन्होंने बताया कि सेनिटेशन का कार्य हमारे अंडर नहीं आता उसके लिए अलग शाखा है। वहीं सेनिटेशन इंस्पेक्टर विजेंदर कौशिक ने कहा कि हर जगह डस्टबिन रखा जाना संभव नहीं है। फिलहाल जहां डस्टबिन रखे गये है कूड़ा वहीं फेंका जाए। जल्द ही फीड बेक फाउंडेशन द्वारा डोर-टू-डोर गीला और सुखा अलग-अलग कूड़ा उठाया जाएगा। जिसमें गीले कूड़े को खाद बनाने में उपयोग किया जाएगा व सुखा कूड़ा रि-साइकलर के पास भेजा जाएगा और जो हाइज्निक वेस्ट होगा उसे डिस्ट्रॉय कर दिया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।