आबादी वाले क्षेत्र में ना लगाया जाए एस.टी.पी,मुख्यमंत्री को पत्र भेज की कार्य रुकवाने की मांग
August 7th, 2020 | Post by :- | 64 Views

कालका (रोहित शर्मा) । कालका के गांव भैरों की सेर (रामबाग रोड) स्थित रिहायशी इलाके में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट ना लगाए जाने बारे सीएम विंडो के माध्यम से स्थानीय लोगों द्वारा हरियाणा के मुख्यमंत्री को एक मांग पत्र भेजा गया है। गांव वासी महेश शर्मा (टिंकू) ने बताया कि कुछ दिनों से रोजाना गांव में रामबाग रोड पर प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा सर्वे किया जा रहा है। जब इस बारे जानकारी ली गई तो पता चला की सरकार द्वारा यहां सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाए जाने की योजना बनाई जा रही है, जोकि सरासर गलत व अनुचित और कानून के दायरे से बाहर है। क्योंकि नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल की गाइडलाइन के अनुसार आबादी वाले क्षेत्र में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट नहीं लगाया जा सकता।

महेश ने कहा कि वायु (प्रदूषण और नियंत्रण) अधिनियम 1981 वायु प्रदूषण रोकने का एक महत्वपूर्ण कानून है। जो प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को ना केवल औद्योगिक इकाइयों को निगरानी की शक्ति देता है बल्कि प्रदूषित करने वाली इकाइयों को बंद ही नहीं साथ में जुर्माना भी करता है। गांव वासियों ने सरकार से मांग की है कि इस सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट को आबादी वाले क्षेत्र से बाहर जाकर बनाया जाए,ताकि गांव वासियों को भविष्य में होने वाली परेशानियों का सामना ना करना पड़े।

जबरन एस.टी.पी. लगाया तो संबंधित अधिकारियों व विभाग के खिलाफ करेंगे याचिका दायर

गांव वासियों का कहना है कि (एस.टी.पी.) सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट जनता की सुविधा के लिए बनाया जाना है ना कि जनता की दुविधा के लिए। कहां यदि संबंधित विभाग व अधिकारियों द्वारा यहां जबरन व प्रदूषण बोर्ड की गाइड लाइन से बाहर जाकर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाया गया तो उनके खिलाफ याचिका दायर करवा कार्य को रुकवाया जाएगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।