मथुरा से लापता हुए गुमशुदा आकाश पुत्र संजय कुमार की जनपद कानपुर नगर से सकुशल बरामद 
August 7th, 2020 | Post by :- | 38 Views

मथुरा,(राजकुमार गुप्ता) थाना कोतवाली पुलिस जनपद मथुरा द्वारा दिनांक 31/07/2020 में रेलवे कॉलोनी चौकी बाग बहादुर थाना कोतवाली मथुरा से लापता हुए गुमशुदा आकाश पुत्र संजय कुमार की जनपद कानपुर नगर से सकुशल बरामदगी  दिनांक 01.08.2020 में कु0 विजयलक्ष्मी निवासी ओमेक्स थाना वृंदावन जनपद मथुरा(स्टेनो डायरेक्टर मथुरा रेलवे जंक्शन) की तहरीर सूचना बावत उनकी बहन श्रीमती आशा के इकलौते पुत्र आकाश पुत्र राजा पुत्र श्री संजय कुमार उम्र 22 वर्ष निवासी म0 नं0 69/2B छतरपुर एक्सटेंशन थाना महरौली नई दिल्ली| जो कि पिछले लगभग डेढ़ माह से अपनी मौसी कु0 विजयलक्ष्मी के साथ मथुरा में रह रहा था तथा दिनांक 31/07/2020 में अपनी मौसी कु0 विजयलक्ष्मी को स्कूटी से ओमेक्स वृंदावन से उनके कार्यालय रेलवे जंक्शन मथुरा पर छोड़कर रेलवे कॉलोनी चौकी बाग बहादुर क्षेत्र थाना कोतवाली स्थित कु0 विजयलक्ष्मी को आवंटित सरकारी क्वार्टर पर स्कूटी खड़ी कर वहीं से समय करीब सुबह 10:30 बजे गुम हो जाने के संबंध में गुमशुदगी थाना कोतवाली पर पंजीकृत की गई|
श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय मथुरा द्वारा गुमशुदा व्यक्तियों की अतिशीघ्र एवं सकुशल बरामदगी हेतु दिए गए स्पष्ट दिशा निर्देष तथा अपर पुलिस अधीक्षक नगर मथुरा एवं क्षेत्राधिकारी नगर मथुरा के कुशल नेतृत्व व प्र0नि0 कोतवाली मथुरा संजीव कुमार दुबे के निकट पर्यवेक्षण में गुमशुदा आकाश की तलाश एवं सकुशल बरामदगी हेतु थाना कोतवाली पुलिस द्वारा निरंतर अथक प्रयास किए गए| तलाश के क्रम में दिनांक 06/08/2020 में मथुरा कोतवाली पुलिस द्वारा सक्रिय किए गए स्रोतों से सूचना मिली के गुमशुदा आकाश को कानपुर नगर बस डिपो पर देखा गया है| जिसके उपरांत थाना कोतवाली पुलिस द्वारा तत्काल ही रवाना होकर गुमशुदा आकाश को उसके परिजनों की उपस्थिति में कानपुर नगर डिपो से सकुशल बरामद कर, आज दिनांक 07/08/2020 में थाना कोतवाली जनपद मथुरा पर लाकर समय करीब 12:10 बजे उसके परिजनों को सुपुर्द कर उनके गंतव्य के लिए रवाना किया गया| बरामद किए गए आकाश उपरोक्त ने पूछताछ पर बताया कि वह पेशे से इंजीनियर है तथा वह कुछ दिन से काफी चिड़चिड़ापन महसूस कर रहा था तथा अकेला रहना चाहता था| इसी कारण से वह दिनाँक 31/07/2020 में सुबह 10.30 बजे अपनी मौसी विजयलक्ष्मी को उनके मथुरा रेलवे जंक्शन स्थित कार्यालय छोड़ कर बिना अपने किसी परिजन को बताए मथुरा बस स्टैंड से बस में बैठकर हापुड़ पहुंचा तथा हापुड़ पहुँच कर तीन दिन वही गंगा जी के घाट पर रहा| इसके बाद उक्त आकाश ट्रक इत्यादि में बैठकर तथा पदयात्रा करते हुए कानपुर नगर पहुंच गया| पूछताछ पर उक्त घटना में आकाश का चिड़चिड़ापन के कारण अपने घर से चले जाना |

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।