गिरदावरी प्रषिक्षण सह कार्यषाला का कलेक्ट्रेट में हुआ आयोजन जिले के सभी राजस्व अधिकारी कार्यषाला में हुए सम्मिलित गिरदावरी के कार्य को गंभीरता से करना सभी अधिकारियों-कर्मचारियों की जिम्मेदारी-कलेक्टर
August 7th, 2020 | Post by :- | 68 Views

कोण्डागांव—- कलेक्ट्रेट सभा भवन में राजस्व विभाग के सभी अधिकारी-कर्मचारियों की गिरदावरी के कार्य के सफल क्रियान्वयन हेतु प्रशिक्षण सह कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला की अध्यक्षता करते हुए कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा ने कहा कि गिरदावरी के कार्य द्वारा किसानों के हितों को संरक्षित करने का प्रयास राज्य शासन द्वारा किया जा रहा है। इसमें सभी राजस्व प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारियों की गंभीरता पूर्वक सक्रिय सहभागिता सुनिश्चित करनी होगी ताकि प्रतिवर्ष धान खरीदी के दौरान आने वाली दिक्कतों का पूर्व में ही समाधान किया जा सके। चूंकि जिले में धान की बुआई अगस्त एवं अन्य की बुआई सितम्बर माह तक पूर्ण कर ली जाती है। इसको ध्यान में रखते हुये धान की फसल हेतु गिरदावरी का कार्य अगस्त एवं अन्य फसलों हेतु सितम्बर माह तक पूर्ण करने को कहा।
गिरदावरी के कार्य के लिये प्रत्येक हल्के के स्तर पर पटवारियों को खेतों तक स्वयं पहुंच उसकी पहचान कर खसरा नम्बर पर्ची के साथ फोटो खिंचकर उसे तहसीलदार के समक्ष प्रस्तुत करना होगा। जिसे तहसीलदार द्वारा भू-अभिलेख विभाग के प्रभारी को दिया जायेगा। इसके माध्यम से फसलों की सहीं स्थिति प्रशासन को प्राप्त हो पायेगी जिसके माध्यम से वह धान खरीदी के समय अवैध धान के विक्रय पर अंकुश लगाकर किसानों को न्याय दिलाएगी।
पटवारी को ग्राम में गिरदावरी के पूर्व मुनादी के माध्यम से किसानों को उसकी सूचना देनी होगी।
गिरदावरी के समय पटवारी खेतों मे पहुंच रिकार्ड में त्रुटि सुधार, किसान सम्मान निधि से किसानों को जोड़ना, रिकार्ड में फौरी नामांतरण आदि कार्यो पर भी ध्यान देंगे। इस अवसर पर कलेक्टर ने अधिकारियों को गिरदावरी के दौरान रेगहा, वनाधिकार पट्टों, वनभूमि अतिक्रमण, फौरी नामांतरण आदि का विशेष रूप से ध्यान रखने को कहा। इसके तहत् रेगहा करने वालों को गिरदावरी में मूल स्वामी से पृथक रेगहा के अन्तर्गत अंकित कर गिरदावरी करने का निर्देश दिया। गिरदावरी के लिये कलेक्टर ने शासन के आदेश अनुरूप कार्य में तेजी लाने के लिये शासन के अन्य विभागों के कर्मचारी जैसे किसान मित्र, रोजगार सहायक, शिक्षकों आदि से भी आवश्यकता अनुरूप सहयोग प्राप्त करने को कहा।
इस कार्यशाला में अनुविभागीय अधिकारी (कोण्डागांव) पवन कुमार प्रेमी, (केशकाल) डीडी मण्डावी, (फरसगांव) डीआर ठाकुर, डिप्टी कलेक्टर बीआर धु्रव सहित सभी तहसीलों के तहसीलदार समेत जिले के सभी राजस्व निरीक्षक एवं पटवारी उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।