अन्धाधुन्ध कटाई से बिगड़ा प्रकृति का संतुलन–अब संभालने की हम सबकी सांझी जिम्मेदारी-गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज।
August 4th, 2020 | Post by :- | 57 Views

अम्बाला: (अशोक शर्मा)
समूचे हरियाणा प्रदेश में आगामी 16 अगस्त अटल जी की पुण्य तिथि तक पौधारोपण अभियान चलाया जाएगा। आगामी 16 अगस्त को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की पुण्य तिथि के अवसर पर प्रदेश के सभी गांवो और वार्डों में त्रिवेणी लगाई जाएगी। यह जानकारी हरियाणा बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ ने सोमवार को अम्बाला छावनी के इन्दिरा पार्क में म्हारा हरियाणा-हरा भरा हरियाणा पौधारोपण अभियान के दृष्टिïगत आयोजित एक सोशल डिस्टेंसिंग कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए दी। धनखड़ ने कहा कि पेड-पौधे हमारे जीवन का मुख्य आधार है। वृक्षों की महिमा पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि वृक्ष है तो सांस है, सांस है तो जीवन है।
कबीर जी की वाणी पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने कहा कि कबीर जी के दोहों में पेड-पौधों के जीवंत उदाहरण दिये गये हैं। कबीर जी की वाणी में कहा गया है कि सांस की कीमत तीन लोकों से उंची है। पेड हमारे बाहरी फेफड़े हैं, जो हमें आक्सीजन प्रदान करते हैं। वृक्षों से जल, फल, फूल, अन्न, रोटी, सब्जियां, दवाएं और यदि पुराने जमाने का जिक्र करें तो गुरूकुल का जीवन भी वृक्षों के सानिध्य में ही मिलता रहा है।
उन्होंने अपनी अभिव्यक्ति के दौरान यह भी कहा कि पेड़ गजब की प्रेरणा देते हैं। पेड़ों से प्रेरणा लेनी चाहिए। जापान की एक कहावत बताते हुए उन्होंने कहा कि हरे भरे पेड़े लगाएं, पक्षी अपने आप आ जाएंगे। उन्होंने पार्टी के लोगों की समर्पण की भावना से जोड़ते हुए कहा कि हम सबका मुख्य उद्देश्य पुराने अनुभव को नई सोच के साथ परवान चढ़ाते हुए जनसेवा के कार्यों को इसी प्रकार आगे बढ़ाना है। इस मौके पर उन्होंने इन्दिरा पार्क परिसर में मोलश्री का पौधा लगाया और इसके पालन-पोषण की जिम्मेदारी भी वरिष्ठï कार्यकर्ता बलकेश वत्स को उसकी इच्छा के अनुसार दी। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण करने के लिये अनिल विज के प्रयास भलीभूत हो रहे हैं। हरियाणा का डेथ रेट अन्य राज्यों की तुलना में बेहद कम है।
हरियाणा के गृह, शहरी स्थानीय निकाय एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने प्रदेशाध्यक्ष ओ.पी. धनखड़ का स्वागत करते हुए कहा कि म्हारा हरियाणा-हरा भरा हरियाणा अभियान के तहत पहला कार्यक्रम अम्बाला छावनी में किया गया है। बदलते परिवेश को देखते हुए पेड़ों की हमें बहुत आवश्यकता है। पेड़ आगे बढऩे की प्रेरणा और शिक्षा देते हैं। पेड़-पौधे जीवन का आधार स्तम्भ हैं। प्रदेशाध्यक्ष ओ.पी. धनखड़ ने म्हारा हरियाणा-हरा भरा हरियाणा की पारी की शुरूआत अम्बाला से की है। इस कार्य को हम आगे बढ़ाने का काम करेंगे। पेड़ हमें हर क्षेत्र में आगे बढऩे की प्रेरणा देते हैं। जिस प्रकार पेड़ हमें छाया देते हैं, उसी प्रकार प्रदेशाध्यक्ष भी कार्यकर्ताओं पर छाया रखने का काम करेंगे।
अपनी अभिव्यक्ति के दौरान विज ने कहा कि पेड़-पौधे मानव जाति के लिए जीवन से लेकर मृत्यु तक काम आते हैं। हवन की लकड़ी से लेकर शमशान की लकड़ी तक पेड़ काम आते हैं। पेड़-पौधों से वायु और आयु मिलती है। आक्सीजन मिलने से प्राणी मात्र फलता-फूलता है। यदि पेड़ न होते तो जीवन की कल्पना भी नही होती और यह धरती बंजर हो जाती। धरती पर सबसे पहला हक पेड़ों का है लेकिन प्राणी मात्र ने अपने स्वार्थ के लिये प्रकृति के साथ खिलवाड़ किया, पेड़ों की कटाई की, जिसके चलते प्रकृति का संतुलन भी बिगड़ा। इसीलिए जरूरत इस बात की है कि अधिक से अधिक पेड़-पौधे लगाये जायें और साथ में निरंतरता में उनका पालन-पोषण किया जाये। जहां पेड़ों की अधिकता होती है, वहां फल, फूल तो मिलते ही हैं, साथ ही फेफड़े भी आक्सीजन से भर जाते हैं। उन्होंने ओ.पी. धनखड़ का अम्बाला से इस अभियान की शुरूआत करने के लिये आभार भी व्यक्त किया। इस मौके पर अनिल विज ने पर्यावरण की स्वच्छता का प्रतीक कपूर का पौधा रोपित किया।
कुरुक्षेत्र के सांसद नायब सिंह सैनी, अम्बाला शहर के विधायक असीम गोयल, प्रदेश महामंत्री एडवोकेट वेदपाल, जिला अध्यक्ष जगमोहन लाल कुमार, म्हारा हरियाणा-हरा भरा हरियाणा अभियान के संयोजक पूर्व विधायक डा0 पवन सैनी, प्रदेश प्रवक्ता संजय शर्मा, जिला प्रभारी धुम्मन सिंह किरमच, महामंत्री राजेश बतौरा, महामंत्री सतीश मेहता, जिला परिषद अध्यक्ष सुरेन्द्र राणा, अनुभव अग्रवाल,रितेश गोयल, मंडल प्रधान राजीव डिम्पल, अजय पराशर, किरण पाल चौहान, महामंत्री बी.एस. बिन्द्रा,मीडिया प्रभारी विजेन्द्र चौहान, राम बाबू यादव, श्याम अरोड़ा, अनिल कौशल, नरेन्द्र राणा, आशीष अग्रवाल, भारत कोचर, मंदीप राणा, बलकेश वत्स सहित पार्टी के अन्य पदाधिकारी व कार्यकर्ता मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।