हाफा नलकूप, दिसंबर 2020 तक लोगों के घरों में नहीं आएगा पानी – दो दशक में सूख गया नलकूप, अब विभाग टैंकर से करेगा जलापूर्ति
August 4th, 2020 | Post by :- | 63 Views

मुकेश सरमाल ( इंदौरा )

विधानसभा हलका इंदौरा की पंचायत गगवाल में विकास के बड़े-बड़े दावे तो हो रहे हैं लेकिन, हकीकत कुछ और ही बयान करती है। क्षेत्र में इन दिनों तेज गर्मी पड़ रही है, गर्मियों के इस मौसम में क्षेत्र का नलकूप हांफने लगा है, बोर सूखने की कगार पर है और क्षेत्र में पानी की किल्लत शुरू हो गई है इस समस्या से निपटने में सिंचाई एंव जन स्वास्थ्य विभाग के पसीने छूटने लगे हैं इस स्थिति को देख कर विभाग के सारे दावे खोखले साबित हो रहे हैं। बीते 20 दिनों से लोगों के घरों में पानी की बूंद तक नहीं पहुंची है लोग जैसे तैसे कर हेड पंप से पानी ढोकर रोजमर्रा की जरूरत पूरी कर रहे हैं लोग लगातार 20 दिनों से दिन रात पानी की आपूर्ति के लिए बाल्टिया भरकर अपने घरों तक पहुंचा रहे हैं इतना सब कुछ होने के बावजूद भी सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के कान पर जूं तक नहीं रेंगी है। क्षेत्र के कई वार्डों में लोगों का पूरा दिन केवल पानी के जुगाड़ में ही बीत रहा है यहां के लोगों को आधा से एक किलोमीटर दूर स्थित हेड पंप से पीने के लिए पानी लाना पड़ रहा है। पंचायत की करीब एक हजार अवादी को इन दिनों पानी की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है परंतु जलपूर्ति प्रभावित हुए 20 दिन का लंबा समय बीत जाने के बावजूद भी अभी तक विभाग ने इसका अल्टरनेटिव नहीं ढूंढा है। आलम यह है कि लोगों को मजबूरी में अपने स्तर पर पानी के टैंकर तक मंगवाने पढ़ रहे हैं, लोगों का पूरा दिन केवल पानी के इंतजाम में बीत रहा है।
झाड़ियों से घिरा शिलान्यास पत्थर…..
क्षेत्र के लोगों को पानी की किल्लत से निजात दिलाने के लिए भले ही 3 करोड़ 43 लाख रूपये की लागत से उठाऊ पेयजल योजना वलीर, डैक्वां, गुज्जर नाला का काम चल रहा है लेकिन, करीब चार वर्ष पूर्व 13 जनवरी 2017 को प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की तरफ से इस योजना का शिलान्यास पत्थर चारों तरफ से झाड़ियों से घिर चुका है।

गुजारे के लिए हेड पंप से ला रहे पानी….
क्षेत्रवासी अर्जुन, बिमला देवी, प्रीति, शारदा देवी, त्रिशला देवी, सपना देवी, आरूषि, आरती, ममता ने बताया कि पानी की सप्लाई पहली बार बाधित नहीं हुई है पहले भी दस दस दिन तक पानी की सप्लाई बाधित होती रही है इस बार तो हद हो गई है बीते 20 दिनों से उनके घरों में पानी की सप्लाई नहीं हो रही है जिसके चलते उन्हें पूरा दिन व रात के समय हेड पंप से पानी ढोकर गुजारा करना पड़ रहा है।

लोग हेडपंप पर जाकर धो रहे कपड़े:
लोगों के घरों में पानी की सप्लाई नहीं हो रही। मजबूर होकर उन्हें चिलचिलाती गर्मी के इस मौसम में चमकती धूप में अपने कपड़े हेड पंप पर जाकर धोने पढ़ रहे हैं जिसमें उनका पूरा पूरा दिन गुजर जाता है। कई लोगों को तो सुबह के समय हेडपंप पर नहा कर गुजारा करना पड़ रहा है।

टैंकरों से हो रही जलापूर्ति:
थपकोर नलकूप का जलस्तर गिर चुका है जिसके चलते लोगों के घरों में पानी की सप्लाई नहीं हो पा रही इस नलकूप की लाइफ भी पूरी हो चुकी है फिर भी विभाग इस नलकूप को ठीक करने का प्रयास कर रहा है फिलहाल लोगों को टैंकर से पानी सप्लाई हो रहा है। क्षेत्र में 13 जनवरी 2017 को प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह की तरफ से उठाऊ पेयजल योजना वलीर, डैक्वां, गुज्जर नाला के शिलान्यास को लेकर पूछने पर उन्होंने कहा कि दिसंबर 2020 तक इस योजना का कार्य पूरा कर लिया जाएगा।

-प्रदीप चड्ढा
अधिशासी अभियंता, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग इंदौरा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।