डॉ. काशी प्रसाद जायसवाल को मरणोपरांत भारत रत्न से किया जाए सम्मानित :ध्रुवचंद
August 4th, 2020 | Post by :- | 141 Views

गोरखपुर, (एके जायसवाल) अखिल भारतीय जायसवाल सर्ववर्गीय महासभा की इकाई उत्तर प्रदेश अध्यक्ष ध्रुवचंद जायसवाल ने महासभा की तरफ से डॉ. काशी प्रसाद जायसवाल की पूर्णतिथि पर श्रद्धा सुमन श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए केन्द्र सरकार से मांग किया कि डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल को मरणोपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया जाए।

डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल विश्व प्रसिद्ध इतिहासकार, पुरातत्वज्ञ, विधिवेत्ता, प्राचीनलिपि मर्मज्ञ, लुप्त इतिहास की खोज, मुद्राशास्त्री, सूक्ष्म अन्वेषक, भारतीय संस्कृत के प्रबल समर्थक, अनेक भाषाओं के ज्ञाता, क्रांतिकारी स्वतंत्रा सेनानी थे।
भारतवर्ष के अनेक विद्वानों ने डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल के संबंध में अपना विचार व्यक्त किया है।

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर ने कहा कि डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल जी मेरे जीवन में सूर्य के समान उदय हुए और स्वयं मे उन्मुक्त होने लगे।

पंडित राहुल सांकृत्यायन ने कहा कि मै डाक्टर जयसवाल जी के संबंध में बस इतना कह सकता हूं इतना बड़ा विद्वान भारत में नहीं पैदा हुआ है।

डॉक्टर निहार रंजन ने कहां की डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल एक युगान्तकारी महापुरुष थे।

पंडित महावीर प्रसाद द्विवेदी ने कहा कि डॉक्टर काशी प्रसाद जयसवाल भारत के प्राचीन इतिहास, पुरातत्व के धुरंधर विद्वान थे।

उपन्यासकार अमृतलाल नागर ने अपने एक लेख मे लिखा कि मुझे हुमायूं की जान बचाने वाले निजामुद्दीन चिश्ती की तरह अगर चार घड़ी की हुकूमत मिल जाए तो मैं नगर नगर गांव गांव मंदिरों में डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल की मूर्तियां लगवाने हुक्म दे दूं, इस महापुरुष ने दुनिया को और भारतीयों को भारतीय इतिहास को देखने समझने की दृष्टि प्रदान की उनका यह योगदान भुलाया नहीं जा सकता है।

ध्रुवचंद जायसवाल ने कहा कि मैं और वर्तमान के महानगर गोरखपुर के महापौर माननीय सीताराम जायसवाल, अखिल भारतीय प्रबुध्द जायसवाल महासभा कार्यक्रम संयोजक इंजीनियर जीपी जायसवाल के आमंत्रण पर डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल के मूर्ति का अनावरण लखनऊ के पार्क मे आने का शुभ अवसर प्राप्त हुआ था। प्रतिवर्ष डॉक्टर काशी प्रसाद जायसवाल की जयंती एवं अन्य कार्यक्रम अखिल भारतीय प्रबुद्ध जायसवाल महासभा द्वारा किया जाता रहा है जो सराहनीय एवं स्वागत योग्य है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।