पूर्व चेयरमैन रवि खत्री ने लाइनपार क्षेत्र में रक्षाबंधन पर बहनों-बेटियों के लिए स्कूल व संस्थान बनवाने की मांग की
August 3rd, 2020 | Post by :- | 64 Views
बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ(गौरव शर्मा)
भाजपा सरकार में लाइनपार क्षेत्र की हुई अनदेखी- भूपेंद्र सिंह हुड्डा, दीपेंद्र सिंह हुड्डा, राजेंद्र जून की वजह से बहादुरगढ़ का हुआ था चहुमुंखी विकास : रवि खत्री
बहादुरगढ़। पूर्व चेयरमैन रवि खत्री ने रक्षाबंधन त्यौहार पर सरकार से मांग की है कि लाइनपार क्षेत्र में महिलाओं के लिए 12 वी तक का सरकारी स्कूल, वोकेशनल कोर्स के लिए संस्थान और ईएसआई अस्पताल की मांग की है। उन्होंने कहा कि लाइनपार क्षेत्र बहुत बड़ा होने के कारण इसमें आबादी ज्यादा हैं। जिससे बेटियों व बहनों को पढ़ने के लिए शहर में कई किलोमीटर आना-जाना पड़ता हैं। पूर्व चेयरमैन रवि खत्री ने कहा कि वह जल्द ही मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर को लाइनपार क्षेत्र में विभिन्न समस्याओं और जनहित मांगो के लिए ज्ञापन भी सौपेंगे ताकि लाइनपार क्षेत्र में शिक्षा, स्वास्थ्य सम्बंधित कोई समस्या न रहें। साथ ही उन्होंने सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब से भाजपा सरकार बनी है तभी से लाइनपार अनदेखी हुई हैं। रवि खत्री ने कहा कि कांग्रेस सरकार बहादुरगढ़ का चहुमुंखी विकास हुआ था। जिसका श्रेय पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा, राज्यसभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा और विधायक राजेंद्र सिंह को जाता हैं। उन्होंने बताया कि कांग्रेस राज में लाइनपार क्षेत्र में परनाला स्कूल को 12 वी कक्षा तक करवाया गया था।
रक्षाबंधन पर बहनों की फ्री बस सेवा लगा ग्रहण : रवि खत्री
कांग्रेस नेता रवि खत्री ने कहा कि भाजपा सरकार ने रक्षाबंधन के अवसर पर बहनों, बेटियों और महिलाओं के मुफ्त बस सफर पर भी ग्रहण लगा दिया है जो निंदनीय है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस राज में पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने रक्षाबंधन पर बहनों, बेटियों व महिलाओं के लिए मुफ्त सफर किया था। लेकिन लॉक डाऊन की मार झेल रहे गरीब लोग अब त्यौहार भी नही मना सकते है, क्योंकि वह आ-जा नही सकते। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा बस, ट्रैन इत्यादि सर्विस बंद है। इस अवसर पर पार्षद प्रेमचंद, राजेश पहलवान, अमित छिल्लर,राकेश ठेकेदार, नीरज राठी,  यशवीर सहरावत आदि मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।