मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को महिला विधायकों ने रक्षासूत्र बांधकर मनाया रक्षाबंधन
August 3rd, 2020 | Post by :- | 30 Views

जयपुर,(सुरेन्द्र कुमार सोनी) । जैसलमेर में बाड़ाबंदी के बीच रह रहे कांग्रेस विधायक आज रक्षाबंधन का पर्व धूमधाम से मना रहे हैं। विधायकों ने एक दूसरे को रक्षाबंधन की बधाई दी और हमेशा एक दूसरे के साथ खड़े रहने का संकल्प लिया। कांग्रेस की एक दर्जन महिला विधायक होटल में ही पुरूष विधायकों के रक्षा सूत्र बांधें। साथ ही महिला विधायक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और कई मंत्रियों के भी रक्षा सूत्र बांधकर उनकी लंबी आयु की कामना की। इसके अलावा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सरकार बचाने की इस लड़ाई में विजय प्राप्त करने के लिए ईश्वर से कामना भी की। आज सुबह शुभ मुहुर्त में विधायकों के रक्षा सूत्र बांधें गए।
*मुख्यमंत्री देंगे लजीज भोजन:
रक्षाबंधन के पर्व पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ओर से सभी विधायकों को होटल में ही आज लंच में खास तरह के पकवान दिए जाएंगे होटल प्रबंधन को इसके लिए निर्देश दिए गए हैं।
*परिवार से दूर होने का दुख:
वहीं रक्षाबंधन के पर्व पर परिवार से दूर होने का दुख भी विधायकों में दिखा। महिला विधायकों और पुरुष विधायकों ने फोन कॉल करके और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए परिजनों के साथ रक्षाबंधन के पर्व की खुशियां साझा की और जल्द ही उनके बीच आने की बात कही।
*मुख्यमंत्री जाएंगे जोधपुर:
वहीं मुख्यमंत्री अशोक गहलोत महिला विधायकों से रक्षासूत्र बंधवाने के बाद जोधपुर के लिए रवाना होंगे जहां वह अपनी बड़ी बहन से मुलाकात कर रक्षा सूत्र बंधवाएंगे। मुख्यमंत्री प्रतिवर्ष रक्षाबंधन के पर्व पर जोधपुर जाकर अपनी बड़ी बहन से रक्षा सूत्र बंधवाते आए हैं।
*शाम तक लौट सकते हैं जयपुर:
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत शाम को जोधपुर से जयपुर लौट सकते हैं। मुख्यमंत्री रविवार को ही मुख्य सचेतक महेश जोशी और खेल मंत्री अशोक चांदना के साथ जैसलमेर पहुंचे थे। गौरतलब है कि शनिवार को ईद उल अजहा के पर्व के मौके पर भी पार्टी के 9 मुस्लिम विधायकों ने होटल में ही नमाज अदा की थी। इसके बाद कैबिनेट मंत्री साले मोहम्मद की ओर से विधायकों के लिए लंच और डिनर में लजीज पकवान दिए गए थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।