किसान मज़दूर सँगर्ष कमेटी का हुआ चुनाव ,मनदीप।सिंह बने प्रधान ।
August 2nd, 2020 | Post by :- | 196 Views
किसान मज़दूर जत्थेबंदी द्वारा गांव राणा काला में हुआ चुनाव मनदीप सिंह बने प्रधान ।

जंडियाला गुरु कुलजीत सिंह
किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब की अध्यक्षता में आज गांव राणा काला में किसानों का एकत्र कर किसानों की इकाई कमेटी की सर्वसम्मति के साथ चुनाव हुए ।जिसमें प्रधान मनदीप सिंह ,सचिव गुरभेज सिंह ,सीनियर मीत प्रधान पलविंदर सिंह ,कैशियर सुखराज सिंह ,अमरजीत सिंह ,हरजिंदर सिंह ,जोगिंदर सिंह तीनो उप सचिव ,गुरदेव सिंह ,तरसेम सिंह नंबरदार ,गुरविंदर सिंह उप प्रधान ,अमरबीर सिंह उप कैशियर समेत 11 सदस्य कमेटी का चुनाव किया गया। इस मीटिंग में विशेष तौर पर जिला प्रधान वरयाम सिंह नंगल ,राज्य कार्यलय सचिव गुरबचन सिंह चब्बा ,मंगजीत सिंह सिधवां ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा एक देश एक मंडी के नाम पर पंजाब मंडी बोर्ड का ढांचा तोड़कर पूरी तरह निजजीकर्ण करने के लिए किसान विरोधी तीन ऑर्डिनेंस 2020 व बिजली सोध बिल 2020 को लागू कर किसान विरोधी फ़ैसले लिए जा रहें हैं। उन्होंने ने कहा कि मोदी सरकार कृषि मंडी तोड़कर गेंहू व धान की।सरकारी खरीद से भाग रही है। मंडी बोर्ड की जनतक जायदाद 12 हज़ार करोड़ रुपये की निजजी कंपनियों को कौड़ियों के भाव दी जा रही है। बड़े व्यापारियों को बिना मंडी फीस दिए किसानों की फसल खरीदने की छूट दी जा रही है। इससे जरुरी वस्तु सोध बिल लागु होने से बिजली पूरी तरह कारपोरेट घरानों के हाथों में जाने के साथ राज्य में बिजली और महंगी हो जाएगी । मजदूरों की 200 यूनिट सब्सिडी  भी बंद औऱ किसानों की कृषि मोटरों पर वार्षिक 72000 रुपये का बिल लगने के कारण पहले ही किसान जो कि ऋण के बोझ तले दबे हुए हैं ।किसान नेताओं ने सरकार से मांग की कि तीनों किसान विरोधी ऑर्डिनेंस 2020 रदद् किये जायें ,धान समेत 23 फसलों की सरकारी खरीद को चालू रखा जाए और डॉक्टर स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट लागू कर फसलों का भाव 50%मुनाफा जोड़ कर दिया जाए ।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।