नगर परिषद के अखबार में विकास के दांवे हवा-हवाई : वजीर राठी
August 1st, 2020 | Post by :- | 218 Views

बहादुरगढ़ लोकहित एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ(गौरव शर्मा)

बहादुरगढ़ में हर तरफ विकास ही विकास हो रहा है ये सरासर झूठ के पुलिंदे : पूर्व पार्षद वजीर राठी

बालोंर रोड पर बसी विजय नगर कॉलोनी के निवासी पिछले काफी अर्से से पेयजल समस्या से झुझ रहे हैं। विजय नगर कॉलोनी में बहुत ही गन्दा काला पेयजल सप्लाई द्वारा उनके घरों में पहुंच रहा है। ये पानी जो बोतल में दिखाया जा रहा है इससे से साफ पानी नालियों में भी मिल जाता है। यह पानी जो विजय नगर के घरों में सप्लाई हो रहा है बिल्कुल काले रंग का हो रहा है। जो किसी काम का नहीं है यहां तक अगर इसको नाली में भी छोड़ा जाए तो नालिया भी गंदी हो जाती है। यहां के निवासियों द्वारा पहले भी अधिकारियों को अपनी इस पेयजल समस्या से अवगत करा चुके हैं परन्तु कही से भी कोई समाधान अभी तक नहीं किया गया है। नगर परिषद बड़े बड़े दावे अखबारों में खबर छपवा कर करती रहती की बहादुरगढ़ में हर तरफ विकास ही विकास हो रहा है ये सरासर झूठ के पुलिंदे ही है। वास्तव में धरातल पर ऐसा कोई विकास कही नजर नहीं आता।पिछले दो साल से अखबारों में अनेकों बार समाचार पड चुके है कभी पूर्व विधायक नरेश कौशिक द्वारा तो कभी शहर की प्रधान द्वारा भी खूब दावे किए जा रहे की अमृत योजना के तहत पेयजल लाइन व बूस्टर के निर्माण पर करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं।जबकि हकीकत में ऐसा कुछ नहीं हो रहा है शहर के लोगो को साफ पेयजल भी अभी तक उपलब्ध नहीं कराया जा रहा है इससे बड़ा दुर्भाग्य और कोई नहीं हो सकता। विजय नगर निवासी आज़ाद सिंह व सरुप सिंह ने अपने घरों में हो रहे गंदे काले पानी को दिखाते हुए बताया कि शायद ही कभी हमारी कॉलोनी में साफ पानी आया हो जो हमारे रोजमर्रा /घर के प्रयोग लायक हो वरना पिछले काफी अरसे से हम इसी गंदे पानी से हर रोज रूबरू हो रहे है।इन्होंने कहा कि हमारी शासन प्रशासन से मांग है कि झूठे विकास के दावे करने की बजाए धरातल में कुछ काम कराए जिससे की आमजन को राहत मिल सके ।अगर ऐसा ही पानी सप्लाई होता रहा तो वह दिन दूर नहीं जब इस एरिया में महामारी फेलनी सुरु हो जाएगी।एक तरफ लोग कोरोना से दुखी हैं वहीं दूसरी ओर झूठे विकास के दावों से ।इसलिए विजय नगर वाली मांग करते हैं की हमारी इस पेयजल समस्या का तत्काल स्थाई समाधान कराया जाए।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।