सरकार बनाये सुगम नीति ताकि आम जन को ना झेलना पड़े सरकारी पीला पंजा : प्रवीण हुडडा
August 1st, 2020 | Post by :- | 31 Views

कालका, (हरपाल सिंह) : आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता व कालका विधानसभा से पूर्व प्रत्याशी प्रवीण हुड्डा ने कहा जब से भाजपा सरकार ने हरियाणा मे दूसरी राजनीतिक पारी संभाली है तब से ही कालका विधान सभा पर सरकारी पीले पंजे का कहर कुछ ज्यादा ही बरपा रहा है जिससे उन लोगों को काफी नुक्सान हुआ है जिन्होंने पाई-पाई जोडक़र अपने लिये खुद के आशियना का सपना संजोया है जिनकी पहुंच हुड्डा, हाऊसिंग बोर्ड व प्राइवेट क्लोनाईजर द्वारा विकसित प्लॉट, मकान व फ्लैट से बहुत दुर है जिसको खरीद पाने का यह मध्यम वर्गीय लोग सपना भी नही देख सकते। इसके अतिरिक्त यह मध्यम वर्गीय, वहीं लोग है जो चुनाव के दिन धूप, छांव व बरसात, सर्दी, गर्मी की प्रवाह किये बगैर राजनीतिक पार्टियो को अपना कीमती वोट देकर सता में आसीन करते है। इन्हीं लोगों की बदोलत आज भाजपा जजपा गठबंधन सरकार सता में सावन का झूला झेल रही है।

इनका कसूर क्या है अपनी नेक कमाई या बैंक से लोन लेकर अपने रहने के लिये प्लॉट खरीदते है जिसके लिये सरकार द्वारा निर्धारित कलेक्टर रेट अनुसार स्टाम्प ड्यूटी अदा करके अपनी रजिस्ट्री करवाते है जिसमें से 2 प्रतिशत स्टाम्प ड्यूटी बतौर डवलपमेंट चार्ज नगर निगम को अदा करते है उसके बावजद भी उन्हें अवैध करार दिया जाता है । सरकार को किसी भी नव विकसित कॉलोनी को वैध घोषित करने में 10 वर्ष या इससे अधिक का समय लग जाता है लेकिन जनसंख्या वृद्धि की रफ्तार में कोई कमी नहीं होती और नये आशियना बनाने वालों की दर भी उतने ही तेजी क्रम से बढ़ती रहती है।

ज्ञात रहे कालका विधान सभा क्षेत्र एक अर्ध पहाड़ी क्षेत्र है और यहां की ज्यादातर भूमि पथरीली है इसलिये यहां पर कृषि बहुत कम होती है जिन लोगो के पास अपनी गुजारे लायक भूमि है वह अपनी मुख्यत जरूरत पर अपनी भूमि को बेच कर ही अपने आवश्यक कार्य साधते है। प्रवीण हुड्डा ने सरकार से मांग की कि कालका विधान सभा एक अर्ध पहाड़ी क्षेत्र जिसके लिये सरकार को विशेष सुगम नीति बना कर यहां के आम जन को आशियना बनाने के लिये सरल सुविधा प्रदान करनी चाहिए ताकि इन गरीब लोगों का मेहनत से कमाया पैसा सरकारी पीले पंजे की मार से बच सके।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।