ठाकुरद्वारा पुलिस चौकी में तैनात सहायक उपनिरीक्षक सरताज सिंह को ईमानदारी स्वरूप मौजूदा सरकार ने दिया  तवादला उपहार
July 31st, 2020 | Post by :- | 198 Views

 

 

 

गगन ललगोत्रा (व्यूरो कांगड़ा)

 

नशे के तस्करो  को था सरताज सिंह का पूरा खोफ

ईमानदार व्यक्ति द्वारा निडर होकर नॉकरी करना शायद आजकल पुलिस विभाग को रास नहीँ आ रहा है क्योंकि जिला काँगड़ा में जो भी मुलाजिम अच्छी नॉकरी करता है उसका तबादला जल्द ही पुलिस विभाग द्वारा कर दिया जाता है ऐसा ही एक ईनाम ठाकुरद्वारा चोंकी में तैनात सहायक उपनिरीक्षक सरताज सिंह को मिला उन्होंने जब ठाकुरद्वारा में अपनी सेवाएं देनी शुरू की थी तभी से जो छूट पुट नेता उनकी शिकायत अपने आकाओं को देना शुरू कर गए थे क्योंकि यह अधिकारी अपनी खाकी की मर्यादा में नॉकरी करता था और ईमानदारी से करता था पर उन छूट भुट चापलूसों को उनकी सेवाएं अच्छी नहीँ लगती थीं और वह इनको यहाँ आए बदलवाने की साजिशें रचते रहते थे।
और अब वो अपने मनसूबों में कामयाब हो गये क्योंकि उनकी राह का ईमानदार चट्टान जी ट्रांसफर विभाग द्वारा कर दी गयी जो कि आम जनता को एक बहुत बड़ा धक्का लगा है क्योंकि सरताज सिंह एक वेबाक अफसर था और नशा तस्कर उनको देख दूर से ही भागना शुरू कर देते थे जब से सरताज सिंह ने ठाकुरद्वारा चोंकी में अपनी सेवाएं देना शुरू की तब से ठाकुरद्वारा में नशा तस्करी पर काफी हद तक रुकावट आ गयी थी पर शायद पुलिस विभाग को ईमानदारी वाले अफसरों का तबादला करने में मजा आता है या दाल में कुछ काला है।

सरताज सिंह के तबादले पर स्थानीय गांव के लोगों को जैसे पता चला तो उन्होंने चोंकी का रुख पकड़ लिया और उन्होंने सरकार को खूब कोसा की सरकार ही नहीँ चाहती कि उनके इलाके से भृष्टाचार व नशा खत्म हो क्योंकि जो इन चीज जो खत्म करता है उसका तबादला कर दिया जाता है।

बही सहायक उपनिरीक्षक सरताज सिंह में बताया के जो भी तबादले के बिभाग द्वारा आदेश जारी किए गए है वो मेरे लिए सबसे पहले मान्य है और नशे के खिलाफ मेरी यह जंग किसी भी छोटे से बड़े नेता से परे हटते हुए जिस तरह ठाकुरद्वारा चौकी में रहकर जारी थी उसी तरह अन्य जगहों पर ड्यूटी के दौरान जारी रहेगी । और किसी के भी  कहने पर कोई  भी     गलत काम  को   सही नही  कहा जाएगा बेेेशक मेरा तबादला सरकार कही भी कर दे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।