रक्षाबंधन पर हटा दो सीमाओं का बंधन- सचदेवा
July 31st, 2020 | Post by :- | 146 Views
–  जिला सोलन के पंजाब और हरियाणा राज्यों से लगती सीमाओं पर एक दिन की ढील देने की  लगाई गुहार
बद्दी ! बददी नगर परिषद के वार्ड पांच से पार्षद एडवोकेट संदीप सचदेवा ने मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर को पत्र लिख कर जिला सोलन के पंजाब और हरियाणा राज्यों से लगती सीमाओं को एक दिन के लिए खोलने की गुहार लगाई है। सचदेवा ने मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में 3 अगस्त को रक्षा बंधन पर्व के मद्देनज़र एक दिन की ढील देने की मांग की है। उन्होंने कहा कि इस दिन पुलिस यातायात नाका बददी, बरोटीवाला, दभोटा, जोंगो समेत अन्य जितने भी जिला सोलन को अन्य पड़ोसी राज्यों को जोड़ने वाले पुलिस नाके हैं उन सभी पर लोगों को आने जाने की छूट दी जाए। रक्षा बंधन का पवित्र त्यौहार साल में एक बार ही आता है और इन दिन का बहनें तथा भाइयों बेसब्री से इंतजार करते हैं। यदि इस दिन भी बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधने से वंचित रहती जाती है तो इससे बड़ा दुर्भाग्य हो ही नहीं सकता। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन कोई ऐसा रास्ता खोजे जिससे कि कोविड-19 महामारी के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके और भाई और बहन का यह पवित्र त्यौहार भी हंसी-खुशी से संपन्न हो जाए। इसमें मेरी ओर से कुछ सुझाव हैं अगर प्रशासन को उचित लगें तो इन्हें लागू कर सकता है। उन्होंने कहा कि क्यों न बार्डर पर आधार कार्ड देखकर आने की अनुमति दी जाए? पड़ोसी राज्य से आने वाले/वाली को निर्धारित समय के लिए आने की अनुमति हो। पड़ोसी राज्य से आने वाले/वाली को पहचान पत्र दिखा कर प्रवेश करने दिया जाए। इसके अलावा प्रशासन हर आने वाले/वाली का चिकित्सीय जांच पुलिस नाका पर ही कर ले। जिससे की संक्रमण का खतरा भी कम हो सकेगा। एडवोकेट सचदेवा ने कहा कि रक्षा बंधन का त्यौहार बहुत ही भावनात्मक और पवित्र पर्व है जिसके लिए बहनें साल भर इंतजार करती हैं। इस अपील को राजनीतिक तौर पर न लिया जाए। जनहित में प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन एक ऐसा निर्णय ले जोकि अन्य लोगों के लिए एक मिसाल बन जाए। जिला प्रशासन इस पर्व के भावनात्मक पहलू को मद्देनज़र रखते हुए लोगों के लिए अंतर्राज्यीय पुलिस नाकों पर लोगों को आवागमन के लिए सुविधा प्रदान करें।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।